भारत सरकार के संचार मंत्रालय के दूरसंचार विभाग ने बताया है कि “स्टारलिंक इन्टरनेट सर्विसेज” को भारत में आमजन के लिए सॅटॅलाइट-आधारित इन्टरनेट सेवायें प्रदान करने के लिए लाइसेंस प्राप्त नहीं है I

यह पता चला है कि मेसर्स स्टारलिंक ने भारत में उपग्रह आधारित स्टारलिंक इंटरनेट सेवाओं की प्री-सेलिंग/बुकिंग शुरू कर दी है। यह स्टारलिंक (www.starlink.com) की वेबसाइट से भी स्पष्ट है, जिसमें भारतीय क्षेत्र में उपयोगकर्ताओं द्वारा उपग्रह आधारित इंटरनेट सेवाओं को बुक किया जा सकता है।

भारत में उपग्रह आधारित सेवाएं प्रदान करने के लिए, दूरसंचार विभाग, भारत सरकार से अपेक्षित लाइसेंस की आवश्यकता होती है। एतद्द्वारा जनता को यह सूचित किया जाता है कि उक्त कंपनी ने उपग्रह आधारित इंटरनेट सेवाएं प्रदान करने के लिए कोई लाइसेंस/प्राधिकार प्राप्त नहीं किया है जो उनकी वेबसाइट पर बुक की जा रही हैं। तदनुसार, सरकार ने कंपनी को उपग्रह आधारित संचार सेवाएं प्रदान करने के लिए भारतीय नियामक ढांचे का पालन करने और तत्काल प्रभाव से भारत में उपग्रह इंटरनेट सेवाओं की बुकिंग/रेंडर करने से परहेज करने के लिए कहा है।

इस तथ्य को देखते हुए कि Starlink एक लाइसेंसधारी नहीं है, श्जरी जी. के. मिश्रा, वरिष्ठ उप महानिदेशक, बिहार लाइसेंस सेवा क्षेत्र (LSA) ( झारखण्ड राज्य सहित ), को सलाह दी जाती है कि वे विज्ञापित की जा रही Starlink सेवाओं की सदस्यता न लें।
 

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read