Ratan Lal

रांची के नामकुम स्थित इंडियन ऑयल कारपोरेशन लिमिटेड के तकरिवन एक दर्जन से भी ज्यादा मजदूरों को अचानक हटा दिया गया। हटाये गए मजदूर और उनके परिवार के सदस्यों ने आज IOC के मेन गेट जामकर IOC के मैनेजर और ठेकेदार के खिलाफ जमकर नारे बाजी की और डिपो मैनेजर पी पी मांझी को मेन गेट के अंदर जाने नही दिया।

पिछले लगभग 30 वर्षो से कार्यरत सभी मजदूर IOC के डिप्टी जेनरल मैनेजर मांझी,डिपो मैनेजर पीपी मिंज और ठेकेदार के मिली भगत से सभी सड़को पर आ गए है और अपने पुनः नौकरी की मांग कर रहे है।लेकिन कोई सुनने को तैयार नही है।

मजदूरो का कहना है कि पिछले 15 सालो से कट रहे पीएफ की राशि का कोई जानकारी नही है और पिछले दो महीनों से वेतन भी नही मिला ऐसे में परिवार का पेट कैसे भरेंगे और बच्चो का पढ़ाई लिखाई कैसे कराएंगे।मैनेजर और ठेकेदार के रवैये से परेशान मजदूर और उनके परिजन सामूहिक आत्मदाह की भी चेतावनी दी है।

गौरतलब है की कुछ महीने पहले नामकुम में  स्थित इंडियन ऑयल डिपो खूंटी में शिफ्ट कर दिया गया है और इन्हें नामकुम डिपो से अचानक हटा दिया गया।हालांकि नामकुम डिपो में अब भी इन्हें नौकरी दी जा सकती है लेकिन IOC के मैनेजर और ठेकेदार 30 साल पुराने मजदूरो को हटाकर नये लोगो को पैसे लेकर बहाल करना चाहती है।जो पुराने मजदूर होने देना नही चाहते।इसलिए मजदूरो ने आज सुबह से मेन गेट जाम कर रखा और अपनी सात सूत्री मांगों को लेकर तप्ती धुप में पत्नी और छोटे छोटे बच्चो के साथ धरने पर बैठे है।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Savtribai Phule Kishori Samriddhi Yojna

must read