*image credit IPRD, Jharkhand

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कोनार सिंचाई परियोजना से जुड़े तकनीकी पदाधिकारियों से कहा कि परियोजना के नहर का काम बरसात आने के पहले जून 2018 तक पूरा कर लें। इस सिंचाई परियोजना को चालू किये जाने हेतु मात्र 2 माह का लक्ष्य रखा गया है। समयबद्ध रूप से निर्माण कार्य किये जाने एवं इसकी नियमित मॉनिटरिंग किये जाने पर ही यह संभव है। उन्होंने कहा कि स्थानीय प्रशासन से समन्वय रख कर कार्य को पूरा किए जाने की जरूरत है। मुख्यमंत्री आज हजारीबाग जिले के विष्णुगढ़ प्रखंड के डीवीसी गेस्ट हाउस में कोनार सिंचाई परियोजना के कार्यों की प्रगति की समीक्षा कर रहे थे। 

समीक्षा के उपरांत उन्होंने कोनार डैम के भ्रमण के क्रम में यहां की प्राकृतिक खूबसूरती की तारीफ की। कोनार सिंचाई परियोजना में डीवीसी द्वारा वर्ष 1955 में निर्मित कोनार डैम के भंडारित जल का उपयोग कर हजारीबाग, गिरिडीह एवं बोकारो जिले के क्रमश विष्णुगढ़, बगोदर, डुमरी एवं नावाडीह प्रखंड के ग्रामों में सिंचाई की सुविधा प्रदान करने का प्रावधान है। कोनार डैम से 2,19,000.00 एकड़ फीट पानी लिया जाना है, जिसके विरूद्ध तेनुघाट जलाशय योजना में संग्रहित जल से तेनू-बोकारो लिंक नहर के माध्यम से इसकी प्रतिपूर्ति की जानी है। इस योजना की कुल सिंचाई क्षमता 62995.6 हेक्टेयर है जिसमें हजारीबाग जिला में 4764.90 हेक्टेयर, गिरिडीह जिले में 50364.80 हेक्टेयर एवं बोकारो जिले में 7825.90 हेक्टेयर है। 

समीक्षा बैठक में उपायुक्त रविशंकर शुक्ला, आरक्षी अधीक्षक अनीश गुप्ता, कोनार नहर प्रमंडल बनासो के कार्यपालक अभियंता अभिषेक मिंज, कार्यपालक अभियंता बगोदर प्रमोद कुमार, कार्यपालक अभियंता डुमरी प्रभाकर मिश्रा सहित जिलास्तरीय पदाधिकारी मौजूद थे।
 

-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga

must read