अंडा बेचने वाली कम्पनी  केडी सिंह पोल्ट्री पर आयकर का 4.25 करोड रुपये का आयकर बकाया है।

ओर क्या क्या आप जानते हैं झारखंड में क़ोन  इस वर्ष आयकर नहीं चुकाया? पड़ते रहिये।

सबसे पहले आयकर नहीं चुकाने वालों में झारखंड ऊर्जा संचरण लिमिटेड पर 2017-18 और 2019-20 का कुल 125 करोड़ रुपये का आयकर बकाया है। ये खबर प्रकाशित की है दैनिक भास्कर. काम

इसी न्यूज़ चैनल ने सूचित किया है की राँची  के आलम नर्सिंग होम पर 2011-12 से 2020 21 तक की अवधि का पांच करोड़ रुपये का बकाया था जिसमें से नर्सिंग होम ने 69 लाख रुपये का भुगतान कर दिया है। 

राजगीर कंस्ट्रक्शन पर आयकर विभाग का 4.2 करोड़ों रुपये का बकाया था, जिसमें से इस कंस्ट्रक्शन कंपनी ने 70 लाख रुपये का भुगतान कर दिया है।

 केडी सिंह पोल्ट्री पर आयकर का 4.25 करोड रुपये का बकाया होने पर नोटिस जारी किया गया था। भुगतान नहीं करने पर इसके निदेशक राजेश सिंह और दीपक सिंह के बैंक खाते को आयकर विभाग ने जब्त कर लिया है।

पूर्व मंत्री एनोस एक्का सहित 250 डिफाल्टर चिन्हित किए गए हैं। इस पर करीब 3000 करोड़ की वसूली की कार्रवाई शुरू की गई है। इनमें से 110 डिफाल्टर के बैंक खातों को आयकर विभाग ने जब्त कर लिया है। बड़े डिफाल्टरों में डॉक्टर व्यापारी झारखंड ऊर्जा संचरण लिमिटेड आदि भी शामिल है। कई केंद्र सरकार के लोक उपक्रम भी शामिल हैं। जिन्होंने अपने आयकर का भुगतान नहीं किया है।

झारखंड में मधु कोड़ा की सरकार में मंत्री रहे एनोस एक्का ने भ्रष्टाचार से अकूत संपत्ति अर्जित की थी। इसका खुलासा CBI और प्रवर्तन निदेशालय के अनुसंधान में भी हो चुका है। प्रवर्तन निदेशालय ने पूर्व मंत्री की 150 करोड़ रुपये से अधिक की चल और अचल संपत्ति को पूर्व में ही जब्त कर चुका है। अब आयकर विभाग ने उन्हें डिफाल्टर घोषित किया है। पूर्व मंत्री एनोस एक्का पर वर्ष 2006-07 का 51 लाख रुपये, 2007-08 का 1.37 करोड रुपये, 2008-09 का 2.75 करोड़ रुपये, 2009-10 का 2.5 करोड़ रुपये 2010-11 का 61 लाख रुपये का टैक्स बकाया है। इस तरह मंत्री पर कुल 7.74 करोड़ का टैक्स बकाया है।
 

-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga

must read