झारखंड में राजनीतिक उथल पुथल मचा है।जेएमएम के गुरुजी शिबू सोरेन को लोकपाल ने दिल्ली में आय से अधिक सम्पत्ति सम्बन्धी मामले की सुनवाई के लिए अगस्त २४ को  बुलाया है।

अब सीएम हेमंत सोरेन के भाई और दुमका से झामुमो के विधायक बसंत सोरेन के खिलाफ खनन कंपनी संचालित करने सम्बन्धी तथ्य छुपाने के आरोप के मामले की सुनवाई इलेक्शन कमीशन अब 29 अगस्त को करेगा। 

इससे पहले निर्वाचन आयोग में खनन लीज मामले में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को लेकर 18 अगस्त को सुनवाई पूरी हो चुकी है। कमीशन ने इससे जुड़ा फैसला सुरक्षित रख लिया है। साथ ही किसी भी दिन आयोग फैसला राज्यपाल को भेज सकता है।

इससे पहले निर्वाचन आयोग ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के निर्वाचन को चुनौती देनेवाली याचिका पर 12 अगस्त को सुनवाई की थी। निर्वाचन आयोग की तरफ से सीएम सोरेन के अधिवक्ता से लिखित सबमिशन मांगा गया था। वरीय अधिवक्ता मिनाक्षी अरोड़ा ने निर्वाचन आयोग के समक्ष दो घंटे तक सीएम सोरेन की तरफ से बहस की थी। अपनी दलील में उन्होंने कहा कि सोरेन के नाम से रांची के अनगड़ा में आवंटित स्टोन माइंस का मामला लोक प्रतिनिधित्व कानून 1951 के 9 ए के दायरे में नहीं आता है।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read