*Image by Ratan Lal

श्रावणी मेला, 2018 के सफल संचालन के लिए सुल्तानगंज से देवघर तक श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधा व सुरक्षा के पुख्ता व्यवस्था मिले तथा दोनों राज्यों के बीच कैसे को-ओर्डिनेशन मजबूत हो, इसके लिए झारखण्ड एवं बिहार इंटर स्टेट को-ओर्डिनेशन की बैठक देवघर में आयोजित की गई। बैठक में संथाल परगना आयुक्त डाॅ0 प्रदीप कुमार, भागलपुर आयुक्त श्री राजेश कुमार, मुंगेर आयुक्त श्री पंकज पाल, आईजी भागलपुर एवं मुंगेर, डीआईजी संथाल परगना, भागलपुर एवं मुंगेर, एसएसपी भागलपुर, मुंगेर, जमुई एवं बांका, उपायुक्त देवघर, दुमका, भागलपुर, बांका एवं जमुई, पुलिस अधीक्षक देवघर, दुमका, भागलपुर, बांका एवं जमुई, संबंधित विभाग के विभिन्न आलाधिकारी आदि उपस्थित थे।

इस संबंध में संथाल परगना आयुक्त डाॅ0 प्रदीप कुमार द्वारा बतलाया गया कि बैठक का मुख्य उद्देश्य श्रावणी मेला के सफल संचालन को लेकर विचार-विमर्श करना है, ताकि सुल्तानगंज से जल भरने के पश्चात श्रद्धालुओं द्वारा जिन-जिन स्थानों से होकर पैदल यात्रा की जाय, वहां श्रद्धालुओं को हर संभव सुविधा मिले। इसके लिए कांवरिया मार्ग में पड़ने वाले सभी जिलों द्वारा आपसी समन्वय स्थापित कर व्यवस्थाएँ की जानी है, ताकि श्रद्धालु सुगमतापूर्वक जलार्पण कर पायें और उन्हें किसी प्रकार की कठिनाईयों का सामना न करना पड़े। इस हेतु इन सभी जिलों के आलाधिकारियों के साथ बैठक आहूत की गयी। संथाल परगना आयुक्त द्वारा आगे जानकारी दी गई कि श्रावणी मेला के दौरान काफी संख्या में श्रद्धालु यहां आते हैं। ऐसे में उन सभी को व्यवस्थित ढंग से जलार्पण कराना प्रशासन के लिए एक चुनौतिपूर्ण कार्य है। यहां आगन्तुक सभी श्रद्धालुओं के भीड़ को नियंत्रित करने हेतु पूरे मेला क्षेत्र में कई होल्डिंग प्वाइंट बनाये गये हैं, जहां सभी मूलभूत सुविधाएँ यथा- बिजली, पंखा आदि होंगी। इसके अलावा इस बार इन होल्डिंग प्वाइंट में मिस्ट शॉवर सिस्टम की भी व्यवस्था की जायेगी, जिसके माध्यम से श्रद्धालुओं को गर्मी व थकान से निजात मिलेगी। 

डाॅ0 प्रदीप कुमार द्वारा आगे बतलाया गया कि इस बार मेला क्षेत्र के सारे नियंत्रण कक्ष को एक हीं जगह पर मानसरोवर के पास बनाया जा रहा है, ताकि उसके माध्यम से मेला क्षेत्र में हो रहे गतिविधियों पर चैबिसों घंटे नजर रखी जायेगी एवं त्वरित कार्रवाई की जायेगी। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार सूचना तकनीकी को और भी सुदृढ़ किया जायेगा। आधुनिक सूचना तकनीकी वाह्टस एप्प में अधिक से अधिक दोनों राज्यो के अधिकारियों को जोड़ा जायेगा, ताकि सूचना मिलते हीं त्वरित कार्रवाई की जा सके। वहीं हाॅटलाईन से दोनों राज्य के आलाधिकारी जुड़े रहेंगे। इसके अलावे सीमावर्ती इलाकों में वायरलेस सिस्टम को और भी दुरूस्त किया जायेगा और वायरलेस की फ्रिक्वेंसी भी इन इलाकों में बढ़ाई जायेगी। साथ हीं संथाल परगना आयुक्त द्वारा बतलाया गया कि सुरक्षा व्यवस्था के दृष्टिकोण से एवं सूचनाओं के आदान-प्रदान व  भीड़ नियंत्रण हेतु देवघर पुलिस द्वारा भागलपुर जिला अन्तर्गत सुल्तानगंज एवं बांका जिला के इनारावरण एवं सुईया में कुल तीन अस्थाई पुलिस चैकी बनायी जाएगी, ताकि उसके माध्यम से कांवरिया मार्ग के पल-पल की जानकारी का आदान-प्रदान होता रहे।
भागलपुर आयुक्त श्री राजेश कुमार द्वारा बतलाया गया कि पूरे मेला के दौरान बिहार एवं झारखण्ड के आलाधिकारियों के साथ समन्वय स्थापित कर शांति व्यवस्था कायम रखी जायेगी। सूचनाओं का आदान-प्रदान की व्यवस्था रहेगी, जिसके माध्यम से भीड़ नियंत्रण में सहुलियत होगी। साथ हीं श्रद्धालुओं को सुगम जलार्पण भी कराने में मदद मिलेगी। साथ हीं उन्होंने बताया कि श्रावणी मेले में जलार्पण संबंधी जो व्यवस्था की गई है एवं रूटलाईनिंग का मैनेजमेंट, खान-पान व आवासन आदि की जो सुविधाएं हैं, उन सभी सूचनाओं से संबंधित बड़े होर्डिंग्स का अधिष्ठापन इस बार सुल्तानगंज से लेकर देवघर व अन्य इलाकों में कराये जायेंगे, ताकि इससे यहां आगन्तुक कांवरियों को आवश्यक जानकारी मिल सके।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Savtribai Phule Kishori Samriddhi Yojna

must read