*All images by IPRD, Jharkhand

राज्य में मिजल्स रुबेला टीकाकरण अभियान की षुरुआत 26 जुलाई 2018 से की जाएगी। स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंषी इस अभियान की षुरुआत करेंगे। स्वास्थ्य, चिकित्सा षिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग की प्रधान सचिव निधि खरे ने आज सूचना भवन सभागार में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मिजल्स रुबेला टीकाकरण अभियान की षुरुआत करने वाला झारखंड देष का सोलहवां राज्य है। नवजात षिषु मृत्युदर कम करने के उद्देष्य से राज्य में यह अभियान षुरु किया जा रहा है। यह टीका 9 महीने से लेकर 15 वर्ष तक के सभी बच्चों को निषुल्क दी जायेगी। इस अभियान के तहत राज्य के सभी सरकारी विद्यालय और निजी विद्यालय के बच्चों का टीकाकरण किया जायेगा। 

श्रीमती खरे ने बताया कि यह टीका राज्य के सभी स्वास्थ्य केंद्रों और आंगनबाड़ी केन्द्रों पर भी निषुल्क दी जायेगी। यह टीका पूर्णतः सुरक्षित है। इस टीका के संबंध में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी लोगों के बीच जागरुक बढा रहे हैं। इससे राज्य के एक करोड़ से अधिक बच्चों को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने के लिये राज्य के 497 केंद्रों से इसकी निगरानी की जायेगी। 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Savtribai Phule Kishori Samriddhi Yojna

स्वास्थ्य विभाग की उप निदेषक डाॅक्टर बीणा सिन्हा ने बताया कि राज्य में नवजात से पांच वर्ष तक के बच्चों में प्रति हजार षिषु मृत्यु दर में कमी आयी है। वर्ष 2011 में प्रति हजार 54 षिषु मृत्यु दर था जो अब 2018 में 33 षिषु मृत्यु दर प्रति हजार पर रह गया है। इसे और कम करना है। उन्होंने बताया कि खसरा एक जानलेवा रोग है जो कि वायरस द्वारा फैलता है। खसरा, बच्चों में विकलांगता और असमय मृत्यु का कारण बनती है। उन्होंने बताया कि रुबैला भी एक संक्रामक रोग है जो वायरस से फैलता है। इसके कारण असमय गर्भपात, बहरापन और हृदय से संबंधित रोग होता है। अभियान के दौरान यह प्रयास किया जायेगा कि सभी बच्चों को टीकाकरण का लाभ मिले। इसके लिये पंचायती राज, महिला एवं बाल विकास विभाग और षिक्षा विभाग समेत कई विभाग का सहयोग लिया गया है। इसमें यूनीसेफ, विष्व स्वास्थ्य संगठन के साथ साथ कई स्वयं सेवी संगठन भी सहयोग कर रहे हैं। 

इस दौरान स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी और विभिन्न संस्थानों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। 

must read