झारखंड आज अपना 22वां स्थापना दिवस मना रहा है। इस आयोजन को खास और ऐतिहासिक बना दिया राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने। पहली बार कोई राष्ट्रपति भगवान बिरसा मुंडा की जन्मस्थली खूंटी जिले के उलिहातू में पहुंचा। द्रौपदी मुर्मू ने उलिहातू पहुंचकर धरती आबा को नमन किया। उनकी जयंती पर उन्हें श्रद्धांजलि दी। इस दौरान उन्होंने बिरसा मुंडा के वंशजों से भी मुलाकात की, उनसे स्थानीय भाषा में बातें की।

भगवान बिरसा के वंशज आज भी कच्चे मकानों में रहने को मजबूर हैं। उन्होंने राष्ट्रपति से पक्के मकान बनवाने की गुहार लगाई है। रांची से हेलीकॉप्टर से राष्ट्रपति खूंटी के उलिहातू पहुंची थीं। 

उनके साथ झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन भी थे। सभी ने बिरसा मुंडा को श्रद्धांजलि दी। राष्ट्रपति का कार्यक्रम यहां आधे घंटे का था। कार्यक्रम में शामिल होने के बाद राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू मध्य प्रदेश रवाना हो गई।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read