बिहार में बड़ी सियासी हलचल हुई है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अचानक बिहार के राज्यपाल से मिलने राजभवन पहुंचे हैं. मुख्यमंत्री के साथ इस वक्त जदयू के वरिष्ठ नेता और मंत्री विजय चौधरी भी हैं. राजभवन पहुंचने से पहले सीएम नीतीश एक सरकारी कार्यक्रम में शामिल हुए थे. 

यहां से वह सीधे राजभवन पहुंच गए. बताया जा रहा है कि करीब आधे घंटे से सीएम नीतीश कुमार की राज्यपाल के साथ बैठक चल रही है. हालांकि, नीतीश किस बारे में बात करने के लिए राज्यपाल के पास पहुंचे हैं, यह बात फिलहाल स्पष्ट नहीं है. नीतीश के अचानक राज्यपाल के पास पहुंचने से सियासी सरगर्मियां इसलिए बढ़ गई हैं, क्योंकि पिछले कुछ समय से नीतीश के एनडीए में वापस जाने की अटलकलें लगाई जा रही हैं. 

ये अटकलें तब और तेज हो गईं, जब केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बयान एक बयान दिया. अमित शाह ने एक अखबार को दिए इंटरव्यू में जेडीयू और नीतीश कुमार की एनडीए में वापसी की संभावना पर टिप्पणी की. उनसे पूछा गया था कि क्या नीतीश कुमार के लिए एनडीए के दरवाजे अब भी खुले हैं? 

इसके जवाब में गृहमंत्री शाह ने कहा- प्रस्ताव आएगा तो विचार करेंगे. अमित शाह के उस बयान के बाद बिहार के सियासी हलके में जेडीयू और राजद के रिश्तों में कड़वाहट की चर्चाएं होने लगी थीं. तब बिहार भाजपा नेता संजय सरावगी ने कहा थ,'फिलहाल नीतीश INDI गठबंधन में कांग्रेस, लालू और तेजस्वी के साथ हैं.

INDI गठबंधन का कोइ भविष्य नहीं है. अगर नीतीश कुमार बीजेपी की सदस्यता ग्रहण कर पार्टी में आते हैं, तब उनके स्वागत के लिए हम तैयार हैं. INDI गठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर आपस में मार काट मची हुई है'.

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read