*Image credit IPRD, Jharkhand

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज झारखंड मंत्रालय में मुख्यमंत्री फेलोशीप योजना के ऑनलाइन सुविधा (http://jhcmfellowship.nic.in) का उदघाटन करते हुये कहा कि  छात्र ऑनलाइन भी स्कॉलरशीप, अनुदान और मानदेय के लिए आवेदन दे सकेंगे, इसके लिए उन्हें विभागों के चक्कर नहीं काटने होंगे।

मुख्यमंत्री दास ने कहा कि पैसों के अभाव के कारण कई बार प्रतिभाशाली छात्र अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाते हैं। सरकार ऐसे छात्रों के लिए उनके साथ खड़ी है साथ ही शोध कार्यों को बढ़ावा देने के लिए भी सरकार काम कर रही है। ऐसे ही छात्रों के लिए मुख्यमंत्री फेलोशीप योजना की शुरुआत की गयी है। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठा रही है। यह इसी की कड़ी है। इसके साथ ही शोध कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए भी सरकार अनुदान दे रही है। 

इस अवसर पर उच्च, तकनीकी शिक्षा और कौशल विकास विभाग के सचिव अजय कुमार सिंह ने जानकारी दी कि तीन श्रेणियों में मुख्यमंत्री फेलोशीप योजना का लाभ दिया जा रहा है। पहला स्नातक स्तर पर तकनीकी पाठ्यक्रम में नामांकन प्राप्त छात्र-छात्राओं के लिए स्कॉलरशीप योजना चलायी जा रही है। इसमें 23 आइ0आइ0टी0, 19 आइ0आइ0एम0, 29 एन0आइ0टी0, 17 नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी समेत देश के 163 सर्वश्रेष्ठ संस्थानों में पढ़ाई के लिए स्कॉलरशीप दी जा रही है। इसके अलावा राज्य के विश्वविद्यालयों से स्नातकोत्तर की पढ़ाई पूरी कर चुके छात्रों को पी0एच0डी0 करने के साथ साथ शोध कार्य करने के लिए हर माह 15 हजार रुपये मानदेय दिया जा रहा है। यह राशि तीन वर्षों तक दी जायेगी। यदि किसी विद्यार्थी का शोध कार्य वैश्विक परिदृश्य के प्रमुख 100 विश्वविद्यालयों में स्वीकार कर लिया जाता है, तो वैसे छात्र को एक लाख रुपये का अनुदान दिया जा रहा है। श्री सिंह ने बताया कि योजना का लाभ उन्हीं छात्रों को मिलेगा, जिनके अभिभावक आयकर दाता नहीं है।

कार्यक्रम में विकास आयुक्त अमित खरे, मुख्यमंत्री के सचिव सुनील कुमार बर्णवाल समेत विभाग के वरीय अधिकारी उपस्थित थे।
 

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read