कोविड 19 को रोकने के लिए पूरे देश में लॉक डाउन 3 मई तक चलेगा । इस दौरान राज्य में कोई भूखा न रहे इस हेतु झारखंड सरकार विभिन्न योजनाओं के तहत लोगों तक भोजन और खाद्य सामग्री पहुँचाने का कार्य कर रही है।  खाद्य, सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग द्वारा  लोगों तक विभिन्न योजनाओं के तहत  राशन एवं खाना पहुँचाने का कार्य किया जा रहा है। विभाग द्वारा  प्राप्त आंकड़ो के अनुसार अब तक 1,86,913 लोगों तक अनाज पहुंचा दिया गया है। वहीं नन पीडीएस के तहत 2,54,673  लोगों तक अनाज उपलब्ध करा दिया गया है।

दाल भात के विभिन्न योजनाओं में अब तक लाखों लोगों को खाना खिलाया गया है।  सरकार द्वारा चलाये जा रहे विभिन्न राहत  कैम्पों में 2,26,783 प्रवासी मजदूरों को खाना खिलाया जा रहा है। एनजीओ एवं वॉलिंटियर्स के  विभिन्न टीमों द्वारा राज्य में विभिन्न जगहों पर 40,48,901 लोगों को खाना खिलाया गया है। साथ ही आकस्मिक राहत पैकेट का वितरण भी जरूरतमंदों के बीच किया जा रहा है। 

राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र द्वारा खाद्य आपूर्ति से संबंधित 12,062 मामलों पर की गई कार्रवाई

राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र में कोविड -19 से संबंधित किसी भी तरह की सहायता हेतु टॉल फ्री नम्बर 181 पर सम्पर्क किया जा रहा है। राज्य स्तरीय कोरोना नियंत्रण केंद्र द्वारा छोटी से छोटी समस्याओं का भी समाधान करने का कार्य किया जा रहा । नियंत्रण केंद्र द्वारा अब तक  कुल 23,361 मामले की कार्रवाई हेतु संबंधित जिलों एवं विभागों को अग्रसारित कर दिया गया है ।

इनमें से अबतक 17,667 मामलों पर सहायता उपलब्ध कराई जा चुकी है ।  शेष बचे मामलों पर हर संभव कार्रवाई की जा रही है। नियंत्रण केंद्र में खाद्य आपूर्ति से संबंधित 12,062, विधि व्यवस्था से संबंधित 1,064, चिकित्सा से संबंधित 1,191, झारखंड में फंसे व्यक्ति से संबंधित 1,250 एवं अन्य 2,100 शिकायतों का समाधान किया गया। 

सरकार राज्य के बाहर फंसे लोगों की सहायता का कर रही हर संभव प्रयास

विश्वव्यापी  महामारी कोविड-19 के संक्रमण से देश में 3 मई तक चलने वाले लॉक डाउन के वजह से झारखंड के कई लोग राज्य के बाहर फंसे हुए हैं। राज्य सरकार उनकी सहायता के लिए प्रतिबद्ध है।श्रम विभाग द्वारा जारी किए गए टॉल फ्री नम्बर्स पर अबतक 32,353 कॉल्स प्राप्त हुए हैं जिसमें राज्य के बाहर 9,40,811 लोगों के फंसे होने की सूचना प्राप्त हुई है। इनमें 13,914 जगहों पर 6,33,648 प्रवासी मजदूरों के फंसे होने की जानकारी प्राप्त हुई है।  

अब तक सरकार द्वारा 13,360 जगहों पर फंसे 4,94,841 मजदूरों के खाने एवं रहने की व्यवस्था की गयी है। सभी लोगों के संबंध में पूरी जानकारी जुटाई जा रही है, ताकि उन तक हर स्तर से मदद पहुंचाई जा सके। 

राज्य सरकार द्वारा मार्च एवं अप्रैल माह का पेंशन, लाभुकों तक पहुंचाने का  किया जा रहा कार्य

राज्य सरकार के सामाजिक सुरक्षा विभाग द्वारा मार्च एवं अप्रैल माह का पेंशन लाभुकों तक  पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। इस क्रम में राज्य के विभिन्न जिलों में मार्च माह का लगभग शत प्रतिशत पेंशन उपलब्ध करा दिया गया है वहीं अप्रैल माह मेंअब तक 18,46,025 लोगों को पेंशन उपलब्ध करा दिया गया है।
 

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read