*Image by IPRD, Jharkhand

मुख्यमंत्री रघुवर दास एवं भारतीय दूर संचार विनियामक प्राधिकरण के अध्यक्ष रामसेवक शर्मा के मध्य एक अहम् बैठक आज झारखण्ड मंत्रालय में हुयी। इस बैठक में भारत नेट परियोजना के झारखण्ड में कार्यान्वयन तथा देवघर में कॉमन डक्ट योजना के कार्यान्वयन पर चर्चा हुई। भारत नेट परियोजना के तहत राज्य के सभी पंचायतों को ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क से जोड़ना है। ग्रामीण झारखण्ड को इंटरनेट कनेक्टिविटी से जोड़कर ग्रामीण क्षेत्र के विकास की राह मजबूत होगी। आज की बैठक में राज्यहित में कनेक्टिविटी के सभी उपलब्ध मॉडलों में कौन सा मॉडल अधिक उपयुक्त होगा इसपर चर्चा हुई।

बैठक में देवघर में कॉमन डक्ट की आईटी योजना पर भी चर्चा हुई। यह देखा जाता है कि शहरी क्षेत्रों में सड़क के किनारे विभिन्न  एजेन्सियां द्वारा अपना ऑप्टिकल फाइबर या अन्य के लिए गडढे किए जाते हैं। इससे सड़क यातायात भी प्रभावित होती है  तथा तारों का जंजाल पसर जाता है। इसी के निवारण के लिए कॉमन डक्ट की योजना शुरू की गई है। इसके तहत चयनित एजेंसी द्वारा एक काॅमन डक्ट बनाया जाएगा तथा जिससे होकर सभी तार जाएंगे। देवघर में इस योजना को शुरू करने हेतु बैठक में चर्चा हुई। मार्च 2018 तक एजेंसी के चयन का कार्य निविदा द्वारा पूरा कर लिया जाएगा।

इस बैठक में मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील कुमार वर्णवाल तथा आईटी सचिव सत्येंन्द्र सिंह भी उपस्थित थे।
 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Savtribai Phule Kishori Samriddhi Yojna

must read