*All images by IPRD, Jharkhand

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखण्ड एक समृद्ध राज्य है इसके बावजूद इसकी गोद में गरीबी पल रही है। उन्होंने कहा कि आज शक्ति की आराधना का दिन है। मां रंकिनी झारखंड की सवा तीन करोड़ जनता को इतनी शक्ति दें कि 2022 तक राज्य समृद्ध और स्वावलंबी बन सके। इस दिशा में सरकार सतत प्रयास भी कर रही है। उन्होंने कहा कि पर्व-त्योहार उत्साह और उमंग के साथ मनाएं। दुनिया को दिखाएं कि झारखंड में आपसी सौहार्द्र स्थापित हो चुका है। जहां शांति और स्थिरता है वहीं विकास है। दास ने कहा कि जनता के सहयोग से पूरे राज्य में उग्रवाद को समाप्त करने में सहायता मिल रही है। मुख्यमंत्री आज घाटशिला के मऊभंडार स्थित फुटबॉल मैदान में रंकिनी महोत्सव के शुभारंभ के अवसर पर लोगों को संबोधित कर रहे थे।

-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखण्ड प्रकृति की गोद में बसा है यहाँ पर्यटन की काफी संभावनाएं है। हमारी सरकार कृषि, उद्योग, सूचना प्रौद्योगिकी के साथ-साथ पर्यटन के क्षेत्र में भी विकास कर रही है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने हमारी संस्कृति को बढ़ावा देने हेतु राज्य के प्रमुख त्योहारों को महोत्सव का नाम दिया है जिससे ये त्योहार केवल उस क्षेत्र में ही नहीं अपितु पूरे राज्य और राष्ट्र में अपनी पहचान बना सके। श्री दास ने कहा कि हमारी सरकार 2018 तक राज्य के 68 लाख परिवारों तक 24 घंटे बिजली पहुँचाने हेतु कार्यरत है। उन्होंने कहा कि राज्य की महिलाएं सीधी और सरल हैं। यह समाज और राष्ट्र की शक्ति कैसे बने इसके लिए सरकार प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सरकार गरीबी उन्मूलन की दिशा में राज्य में कई छोटी-छोटी योजनाएं को चला रही है। इसके अंतर्गत मधुमक्खी पालन, मुर्गी पालन, रेडी टू ईट फूड आदि योजनाओं से राज्य की महिलाएं स्वावलंबी बनेंगी। श्री दास ने कहा कि झारखंड की सभी समस्याओं का निदान विकास और तेजी से विकास है। 

कार्यक्रम में सांसद विद्युत वरण महतो, घाटशिला विधायक लक्ष्मण टुडू, पोटका विधायक मेनका सरदार, बहरागोड़ा विधायक कुणाल सारंगी, प्रमंडल आयुक्त प्रमोद कुमार, महिला आयोग की अध्यक्ष कल्याणी शरण समेत बड़ी संख्या में गणमान्य व्यक्ति उपस्थित।

must read