मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन के नेतृत्व में टीकाकरण अभियान को लगातार गति दी जा रही है। एनएचएम झारखण्ड के पास उपलब्ध टीके के आंकड़ों के अनुसार 26 मई तक झारखण्ड में वैक्सीन कवरेज 40,12,142 था, जो आठ जून की सुबह तक 46,07,189 डोज के कवरेज तक पहुंच गया । 

पूरे झारखंड में दो सप्ताह के दौरान लगभग 6 लाख वैक्सीन की नई खुराक दी गई। 26 मई तक राज्य सरकार के पास कुल टीका की उपलब्धता 42,07,128 डोज की थी, इसमें से 40,12,142 डोज दिया जा चुका था। वहीं आठ जून तक कुल टीका डोज की उपलब्धता 46,76,990 थी, इसमें से 46,07,189 डोज दिया गया था।

*जागरूकता अभियान ने वैक्सीन की क्षति को किया कम, टीकाकरण की बढ़ी गति

राज्य सरकार ने मई माह में लोगों को वैक्सीन की आवश्यकता, कोविड उपयुक्त व्यवहार और अन्य प्रासंगिक जानकारी के बारे में जागरूक करने के लिए जागरूकता अभियान शुरू किया। जेएसएलपीएस के तहत सखी मंडल की 23 लाख से अधिक महिलाओं को राज्य भर में जन जागरूकता अभियान के लिए प्रशिक्षित किया गया। संचार माध्यमों से भी टीकाकरण को लेकर व्याप्त भ्रांतियों को दूर किया गया।

*टीकाकरण को महाअभियान का रूप दिया गया

राज्य के कई दुर्गम इलाकों में टीकाकरण के लिए चारपहिया वाहन से पहुंचना मुश्किल था। सरकार ऐसे क्षेत्रों में निवास करने वालों को भी वैक्सीन की उपलब्धता सुनिश्चित कराने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है। इस भावना के साथ कई जिलों ने ऑन स्पॉट पंजीकरण सुविधा के साथ बाइक टीकाकरण अभियान अपनाया है। इससे ग्रामीण आबादी के बीच जागरूकता पैदा करने और एक बड़ी आबादी को टीकाकरण केंद्रों तक पहुंचाने में भी मदद मिली। राज्य के दूर-दराज के हिस्सों में टीकाकरण सुनिश्चित करने के लिए मोबाइल टीकाकरण वैन भी चलाया जा रहा है।

*वैक्सीन की क्षति में कमी दर्ज की गई*

टीकाकरण अभियान को और गति देकर वैक्सीन की क्षति को कम किया जा रहा है। राज्य सरकार वैक्सीन सेंटर में यह सुनिश्चित कर रही है कि वैक्सीन की क्षति ना हो। 26 मई तक राज्य में वैक्सीन की क्षति 4.5 प्रतिशत के करीब थी, जो घटकर 1.5 प्रतिशत से भी कम हो गई है । टीकाकरण अभियान की घोषणा के दिन से ही राज्यवासियों के लिए टीके की उपलब्धता सुनिश्चित करने का अथक प्रयास राज्य सरकार कर रही है। वैक्सीन अंतिम व्यक्ति को उपलब्ध हो, यह सुनिश्चित करने का प्रयास लगातार जारी है।
 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read