सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री श्री कृष्ण पाल गुर्जर ने आजबिहार के गया में भारत सरकार की एडीआईपी योजना के तहत चिन्हित1146 दिव्यांगजनों के बीच ब्लॉक स्तर पर सहायता और सहायक उपकरणोंके मुफ्त वितरण के लिए शिविर का उद्घाटन किया। समारोह के मुख्यअतिथि श्री गुर्जर समारोह में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए वर्चुअली मौजूदरहे। 

श्री विजय कुमार, संसद सदस्य, गया ने मुख्य कार्यक्रम स्थल पर अपनीगरिमामयी उपस्थिति के साथ समारोह की अध्यक्षता की। अन्य गणमान्यव्यक्तियों में डॉ. प्रेम कुमार, विधान सभा सदस्य, गया शारीरिक रूप सेउपस्थित थे।

इस अवसर पर संबोधित करते हुए केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिताराज्य मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में विभाग ने वर्षों से लगातारदिव्यांगजनों के कल्याण के लिए अभूतपूर्व कार्य किया है।इस तरह केवितरण शिविर आयोजित करने की आवश्यकता के बारे में बोलते हुए, मंत्रीने कहा कि इस तरह के शिविरों के आयोजन से केंद्र सरकार द्वारादिव्यांगजनों के लिए चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं के बारे मेंजागरूकता फैलाने और उन्हें सशक्त बनाने और उन्हें समाज की मुख्य धारामें लाने में मदद मिलती है। इसके अलावा, श्री गुर्जर ने कहा कि विकलांगव्यक्तियों के अधिकार अधिनियम 2016 के लागू होने के बाद, विकलांगताकी श्रेणियां 7 से बढ़कर 21 हो गई हैं।  

सरकारी नौकरियों में दिव्यांगजनों केलिए आरक्षण 3% से बढ़ाकर 4% कर दिया गया है और उच्च शिक्षा में भीआरक्षण अब बढ़कर 5% हो गया है। उन्होंने आगे बताया कि जन्म से बधिरऔर बोल नहीं सकने वाले बच्चों के लिए कर्णावर्त उपकरण लगाने कीयोजना, मंत्रालय द्वारा ऐसे प्रत्येक बच्चे के लिए 6 लाख रुपये के प्रावधान केसाथ, लागू की गई है। । उन्होंने जन प्रतिनिधियों और प्रशासन से आग्रहकिया कि गया जिले में ऐसे जरूरतमंद बच्चों की सूची मंत्रालय को उपलब्धकराई जाए ताकि पात्र लाभार्थियों को कर्णावर्त उपकरण  इम्प्लांट के लिएकेंद्र द्वारा संचालित योजना का लाभ मिल सके। सुलभ भारत अभियान केतहत मंत्रालय द्वारा की गई पहल के बारे में जानकारी देते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री ने बताया कि विकलांग व्यक्तियों के लिए सुलभ वातावरण प्रदान करनेके लिए 35 अंतरराष्ट्रीय और 55 घरेलू हवाई अड्डों, 709 रेलवे स्टेशनों, 10175 बस टर्मिनलों और 683 वेबसाइटों को कवर किया गया है।

लगभग 101.30 लाख रुपये मूल्य के विभिन्न श्रेणी के 2220 सहायकउपकरण के लिए गया जिले के कुल 1146 लाभार्थियों की पूर्व पहचान कीगई। ऐसे सहायक उपकरण प्रखंड स्तर पर वितरण शिविरों की श्रंखलाआयोजित कर हितग्राहियों के बीच वितरित किए जाएंगे। दिव्यांगजनलाभार्थियों की पहचान और पंजीकरण इस साल फरवरी के महीने मेंभारतीय कृत्रिम अंग निर्माण निगम (ALIMCO) द्वारा जिला प्रशासन गया, बिहार के सहयोग से किया गया था।

वितरण शिविर का आयोजन भारत सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय (MoSJE) के  दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग(DEPwD) के तत्वावधान में ALIMCO, कानपुर द्वारा जिला प्रशासन गयाके सहयोग से COVID 19 महामारी के मद्देनजर मंत्रालय द्वारा जारी नएस्वीकृत मानक संचालन प्रक्रिया (SOP) के अनुसार किया गया था।

विभिन्न ब्लॉकों में वितरित किए जाने वाले उपकरणों की कुल संख्या में 821 ट्राइसाइकिल, 131 व्हील चेयर, 02 सीपी चेयर, 774 बैसाखी, 219 वॉकिंगस्टिक, 29 रोलेटर, 21 स्मार्ट केन, दृष्टिबाधित के लिए 02 ब्रेल किट, 90 हियरिंग एड, बौद्धिक रूप से विकलांगों के लिए एमएसआईईडी 54 किट,कुष्ठ रोग के लिए एडीएल (दैनिक जीवन सहायता) किट और 72 कृत्रिम अंगऔर कैलिपर शामिल हैं।

-------Advertisement-------Jharkhand Janjatiya Mahoutsav-2022
-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga
-------Advertisement-------

must read