*Representational picture courtesy growtrees.com

जंगली हाथी द्वारा मारी गयी महिला के परिवार को चार लाख रुपए और अंबेडकर आवास की उम्मीद है। “ रुपय जल्दी मिल जाता तो बहुत अच्छा होता”, एक परिवार के सदस्य ने रोते रोते बोली।

सच्चाई ए है की बोकारो ज़िला के पेटरवार थाना क्षेत्र के कोह पंचायत के महतो टोला में मंगलवार की सुबह एक हाथी ने महिला को कुचल कर मार डाला। महिला अपने पति और बेटी के साथ खेत में भिंडी तोड़ रही थी। 

इसी दौरान हाथी वहां आ गया। महिला ने शोर मचाना शुरू किया तो उसका पति खेत में छुप गया और बेटी वहां से भाग निकली। पर महिला हाथी की चपेट में आ गई।

मृतका की पहचान रघुनन्दन महतो की पत्नी हुलसी देवी (51) के रूप में की गई। रघुनन्दन महतो ने बताया कि हुलसी हाथी को देख कर चिल्लाने लगी कि भागो-भागो हाथी आया है। पत्नी के चिल्लाने पर वे भिंडी के खेत में छिप गया और उनकी बेटी दौड़ कर खेत से भाग गई। वहीं, पत्नी को हाथी ने कुचल कर मार डाला।

दरअसल, पेटरवार के रूकाम गांव होते हुए पांच हाथियों का झुंड पेटरवार के पुरनापानी गांव स्थित नव प्राथमिक विद्यालय पुरनापानी के कार्यालय की खिड़की और दरवाजा तोड़ बच्चों के बीच बांटे जाने वाले चावल को खा गए। इसके बाद विचरण करते हुए कोह गांव पहुंचे। यहां पर खेत में भिंडी तोड़ रही हुलसी देवी को मार डाला।

इधर, घटना की सूचना मिलते ही पेटरवार बीडीओ शैलेंद्र चौरसिया, पेटरवार पुलिस, वन विभाग की टीम, मुखिया फुलेश्वरी देवी, विधायक प्रतिनिधि जगदेव महतो मौके पर पहुंचे और मृतक के परिजनों को ढांढस बंधाया। मृतक के आश्रितों को वन विभाग की ओर से चार लाख रुपए और अंबेडकर आवास दिया जाएगा।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read