*Sunset at Netarhat by Ujjawalagrawal2 - Own work, CC BY-SA 4.0, https://commons.wikimedia.org/w/index.php?curid=51928531

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि नेतरहाट आवासीय विद्यालय राज्य का गौरव है। यहां से पढ़ कर निकले कई छात्र आज देश-दुनिया में सफलता की बुलंदियों पर हैं। इसी से प्रेरणा लेकर राज्य सरकार झारखंड के तीन प्रमंडल में नेतरहाट आवासीय विद्यालय की तर्ज पर विद्यालय शुरू करेगी। इस विद्यालय में जल्द ही फिल्टर प्लांट लगाया जायेगा, ताकि बच्चों को स्वच्छ पानी उपलब्ध हो सके साथ ही स्कूल परिसर में इंडोर स्टेडियम भी बनाया जायेगा। उन्होंने कहा कि नेतरहाट स्कूल को फिर से अपना पुराना गौरव प्राप्त करना है। इसमें यहां की प्रबंध समिति के साथ साथ छात्र एवं शिक्षकों की भूमिका भी अहम होगी। राज्य सरकार हर मदद के लिए तैयार है।उक्त बातें मुख्यमंत्री ने नेतरहाट आवासीय विद्यालय सम्मेलन में विधार्थियों को संबोधित करते हुए कहीं।

मुख्यमंत्री दास ने नेतरहाट में कृषि केंद्र की स्थापना, जनजातीय प्रशासनिक प्रशिक्षण केंद्र बनाने की घोषणा भी की। रघुवर दास ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के न्यू इंडिया के सपनों को पूरा करना है। इसमें नेतरहाट जैसे स्कूलों का अहम योगदान होगा। दुनिया तेजी से बदल रही है। आज के युग में वही आगे बढ़ सकता है, जिसके पास ज्ञान है। यदि आपके पास ज्ञान है, तो सफलता के अनंत अवसर आपको मिलेंगे। ईमानदारी और नैतिकता के साथ काम कर हम सब न केवल अपने और अपने परिवार बल्कि राष्ट्र का भी भला कर सकते हैं।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

*image credit IPRD

इससे पहले मुख्यमंत्री रघुवर दास ने नेतरहाट आवासीय विद्यालय का भ्रमण किया साथ ही ऑडिटोरियम का उदघाटन किया। कार्यक्रम के बाद स्कूल के मैदान में मुख्यमंत्री एकादश और मुख्य सचेतक एकादश के बीच होने वाले क्रिकेट मैच का उदघाटन किया। उगते हुए सूर्य का दर्शन किया। इस मनोरम दृश्य को उन्होंने कैमरे में भी कैद किया

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज प्रातः नेतरहाट में उगते हुए सूर्य का दर्शन किया। इस मनोरम दृश्य को उन्होंने कैमरे में भी कैद किया। इस दौरान बड़ी संख्या में मंत्री, विधायक व अधिकारी गण उपस्थित थे। इसके बाद उन्होंने उपायुक्त कैंप कार्यालय सह अतिथि भवन अरुणोदय का उदघाटन किया। इस परिसर में 13 कमरे हैं। साथ ही खुबसूरत लैंडस्केपिंग भी की गयी है। पीपीपी मोड पर चलाये जानेवाले इस भवन के हर कमरे से लोग सूर्योदय का आनंद ले सकते हैं।

*image credit IPRD

नेतरहाट को पर्यटन के विश्व मानचित्र पर लाना है

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि नेतरहाट को पर्यटन के विश्व मानचित्र पर लाना है। इसके लिए आधारभूत संरचना को दूरुस्त किया जा रहा है। यहां पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए ही राज्य सरकार ने यहां कैबिनेट की बैठक बुलायी। जो काम करोड़ों के विज्ञापन से नहीं हो सकता, वो काम नेतरहाट में हुए कार्यक्रमों से संभव हो पाया है। यहां बनायी गयी टैंट सिटी की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि ऐसी चीजें पहले झारखंड में सोची भी नहीं जाती थी। पर्यटन मंत्री श्री अमर कुमार बाउरी के प्रयासों से यह संभव हो पाया, इसके लिए उन्हें और उनकी पूरी टीम को बधाई। जल्द ही वे फिर नेतरहाट आयेंगे। यहां चल रहे विकास कार्यों की समीक्षा करेंगे। उन्होंने स्थानीय उपायुक्त से हर सप्ताह जनता दरबार लगाकर लोगों की समस्या सुनने और उन्हें दूर करने का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने आज कहा कि नेतरहाट विद्यालय की शुरुआत शैले (Chalet) से हुई थी जो पूर्व में गवर्नर हाउस हुआ करता था। बाद में वहाँ पर उपायुक्त शिविर खोल दिया गया था। शैले भवन पूर्णतः लकड़ी से बना है उसे सरकार स्कूल को वापस करेगी और उसे हेरिटेज के रूप में विकसित किया जाएगा।

इस दौरान शिक्षा मंत्री डॉ नीरा यादव सहित राज्य सरकार के मंत्रीगण, स्थानीय विधायक हरिकृष्ण सिंह सहित बड़ी संख्या में विधायकगण, भवन निर्माण सचिव केकेसोन, स्कूल के प्राचार्य अंजनी कुमार पाठक, नेतरहाट विद्यालय समिति के सभापति श्री केकेनाग, छात्र-छात्राएं, शिक्षक समेत बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

must read