Union Home Minister Sushil Kumar Shinde today visited Saryu hills in Latehar district in Jharkhand.

After inspecting the barracks of the CRPFthere,he inspected the school and addressed the CRPF personnel deployed at Saryu to deal with the Naxals in Palamau division.

For quite some time,Saryu hill-forests in Latehar,like Saranda hill-forest in West Singhbhum,were the headquarter of the CPI(Maoist).The CRPF set up its camp last year.

Today,while addressing a meeting with the CRPF personnel at Saryu,he lauded their role in combating the Left Wing Extremists.”They are doing excellent job.Every body is proud of them”,said the Union Home Minister.

He also held a review meeting on law and order and development works undertaken by the government under Saranda and Saryu Action Plans.

A press release was issued by the public relations department giving details of Shinde’s meeting with the top brass of Jharkhand.Consider this:

भारत के माननीय गृह मंत्री श्री सुषील कुमार षिंदे ने राज्य की विधि-व्यवस्था को सुदृढ़ करने तथा उग्रवाद पर नियंत्रण हेतु राज्य सरकार के द्वारा किये जा रहे कार्यों की आज राजभवन में उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक की। बैठक में महामहिम राज्यपाल डा0 सैयद अहमद, राज्यपाल के सलाहकार श्री मधुकर गुप्ता, श्री के. विजय कुमार, केन्द्रीय गृह सचिव श्री आर.के. सिंह, मुख्य सचिव श्री आर.एस. शर्मा, विकास आयुक्त श्री ए.के. सरकार, गृह सचिव श्री एन.एन. पाण्डे, श्री आर.एस. पोद्दार, श्री एन.एन. सिन्हा, श्री सुखदेव सिंह, श्रीमती राजबाला वर्मा, श्री अविनाष कुमार, आरक्षी महानिदेषक श्री राजीव कुमार तथा पुलिस के अन्य उच्चाधिकारी, केन्द्रीय गृह मंत्रालय के उच्चाधिकारी उपसिथत थे।

बैठक में गृह मंत्री ने राज्य पुलिस बल के सुदृढि़करण एवं आधुनिकीकरण हेतु किये जा रहे प्रयासों की समीक्षा करने के क्रम में कहा कि आरक्षी अवर निरीक्षक के रिक्त पदों को सीधी नियुकित के द्वारा शीघ्र भरें। गृह मंत्री ने कनीय पुलिस पदधिकारियों के प्रषिक्षण के संबंध में भी विस्तार से जानकारी ली।

केन्द्रीय गृह मंत्री श्री षिन्दे ने निदेष दिया कि गिरफ्तार उग्रवादियों के विरूद्ध शीघ्र चार्जषीट दाखिल करें। उन्होंने यह भी निदेष दिया कि जहाँ-जहाँ पुलिस कैम्प हैं, वहां अनिवार्य रूप से थाना भी हो तथा उस क्षेत्र में विकास कार्य भी प्रभावी ढंग से की जाय। केन्द्रीय गृह मंत्री ने सारण्डा योजना एवं सरयू योजना के संबंध में भी पूरी जानकारी ली तथा निदेष दिया कि सरयू योजना में और क्षेत्र को नहीं जोड़ा जाय। उन्होंने कहा कि यदि जरूरत है तो बाद में उस जिले के लिये पृथक से योजना बनायें। छोटी-छोटी योजना का मानिटरिंग ठीक से होता है तथा यह प्रभावी भी होता है।

बैठक में राज्यपाल के परामर्षी श्री मधुकर गुप्ता ने गृह मंत्री से आग्रह किया कि झारखण्ड के तीव्र विकास हेतु विषेष पैकेज दिया जाय। उन्होंने कहा कि कर्इ क्षेत्रों में राज्य की सिथति राष्ट्रीय औसत से काफी कम है। बैठक में गृह मंत्री ने कहा कि राज्य में विधुत उत्पादन की असीम संभावना है, अत: इस दिषा में प्रयास होना चाहिये। उन्होंने कहा कि डी0वी0सी0 का कार्यालय झारखण्ड में अवष्य होना चाहिये एवं राज्य इसके लिए कोर कैपिटल क्षेत्र में भूमि आवंटित करे। उन्होंने झारखण्ड सरकार से नर्इ राजधानी के संबंध में शीघ्र निर्णय लेने को कहा, चूँकि साथ बने दोनों राज्यों ने यह कार्य सम्पन्न कर लिया है।

-------Advertisement-------Jharkhand Janjatiya Mahoutsav-2022
-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga
-------Advertisement-------

must read