अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद से संबद्ध अधिवक्ता परिषद, झारखंड द्वारा स्थानीय अग्रसेन भवन में आयोजित प्रदेश अभ्यास वर्ग धूमधाम से संपन्न हुआ। दो दिवसीय इस अभ्यास वर्ग में विभिन्न सत्रों के दौरान समाज व राष्ट्र-हित से संबंधित अनेक विषयों पर महत्वपूर्ण चर्चा की गई।

 दूसरे दिन आयोजित पंचम सत्र में ' डायन प्रथा: एक अभिशाप ' विषय पर विज्ञ अधिवक्ताओं ने विस्तार से अपने विचारों की प्रस्तुति की। राज्य महिला प्रमुख महामाया राय ने विषय प्रवेश कराया, जबकि अर्चना कुमारी ने डायन प्रथा को सामाजिक कुरीति बताते हुए इससे संबंधित कानून का लाभ लिए जाने की बात कही। मुख्य वक्ता के रूप में अधिवक्ता परिषद, झारखंड प्रदेश की प्रांतीय मंत्री नीता कृष्णा ने विस्तार से इस विषय पर अपने विचार व्यक्त किए और इस समस्या से जुड़े सभी पहलुओं को जनमानस के सामने रखते हुए कानून के अनुपालन हेतु सामाजिक जागरूकता की आवश्यकता बताई ताकि डायन के नाम पर महिलाओं के बहुविध शोषण को पूरी तरह समाप्त किया जा सके। 

इस सत्र का संचालन किरण सुषमा खोया द्वारा किया गया। षष्टम सत्र जो प्रोफेशन, संगठन व परिवार के बीच संतुलन से जुड़ा हुआ था,ण उसमें विषय प्रवेश अधिवक्ता परिषद के राष्ट्रीय परिषद सदस्य प्रशांत विद्यार्थी ने कराया, जबकि परिषद के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य-सह- झारखंड राज्य विधिज्ञ परिषद के अध्यक्ष राजेंद्र कृष्णा ने विषय पर बहुत ही सुंदर तरीके से प्रकाश डाला और यह स्पष्ट किया कि किस प्रकार व्यवसाय, सांगठनिक कार्य एवं परिवार के बीच समय का संतुलन स्थापित किया जा सकता है। 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

इस सत्र में विशेष तौर पर उपस्थित अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद के उत्तर- पूर्व क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री- सह- केंद्रीय टोली सदस्य श्रीहरि बोरीकर ने भी व्यवसाय, संगठन एवं पारिवारिक कार्यों के बीच संतुलन स्थापित करने की आवश्यकता और उसके तरीके को व्याख्यायित किया। इस सत्र में परिषद के राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री संतोष कुमार का भी सारगर्भित मार्गदर्शन प्राप्त हुआ। प्रदेश अभ्यास वर्ग के समापन समारोह को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रदेश संघचालक सच्चिदानंद अग्रवाल ने संबोधित किया एवं राष्ट्रहित में अधिवक्ताओं के सामने उत्पन्न चुनौतियों और उनके दायित्व बोध पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि अधिवक्ताओं ने सदैव समाज का मार्गदर्शन किया है और राष्ट्र के समग्र विकास के लिए उनकी सतत जागरूकता की आवश्यकता है। 

प्रदेश अभ्यास वर्ग में विशेष तौर पर उपस्थित उत्तर- पूर्व क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री श्रीहरि बोरीकर, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री संतोष कुमार, बिहार- झारखंड के क्षेत्रीय संगठन मंत्री सुनील कुमार, अधिवक्ता परिषद झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र मिश्रा, वरीय प्रांतीय उपाध्यक्ष राज कुमार शर्मा, प्रांतीय उपाध्यक्ष संतोष कुमार पांडेय, प्रांतीय उपाध्यक्ष बी कामेश्वरी उमा, प्रांतीय महामंत्री विजय नाथ कुंवर, प्रांतीय कोषाध्यक्ष पवन कुमार पाठक, मार्गदर्शक मंडल के सदस्य चंद्र भूषण ओझा, मार्गदर्शक मंडल के सदस्य- सह- स्टेट बार कौंसिल के चेयरमैन राजेंद्र कृष्णा, प्रांतीय मंत्री नीता कृष्ण, राज्य महिला प्रमुख महामाया राय, राष्ट्रीय परिषद सदस्य प्रमोद कुमार गुप्ता,भीम महतो, कार्यक्रम- संयोजक प्रेम प्रकाश उपाध्याय, सह संयोजक पंचानन राय, 'न्याय प्रवाह' पत्रिका के प्रभारी मनोज कुमार, सुनील कुमार, लीना मुखर्जी, अर्चना कुमारी, मनोज टंडन, प्रांतीय मंत्री अरविंद गोयल सहित राज्य के विभिन्न जिलों से आए प्रतिनिधिगण एवं धनबाद के अधिवक्तागण बड़ी संख्या में मौजूद रहे।

 सहसंयोजक पंचानंद राय द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया। मौके पर प्रांतीय अध्यक्ष राजेंद्र मिश्रा द्वारा धनबाद जिला की इकाई के पुनर्गठन की घोषणा भी की गई। प्रदेश अभ्यास वर्ग के दौरान यह भी तय किया गया कि अगला प्रदेश अभ्यास वर्ग जमशेदपुर में आयोजित किया जाएगा, जबकि प्रदेश सम्मेलन अगले वर्ष रांची में आयोजित किया जाएगा। "जन मन अधिनायक जय.......... " के बोलों के साथ अभ्यास वर्ग के समापन की घोषणा की गई।ये समाचार रीतेश कुमार बॉबी,प्रांत मीडिया सह प्रमुख ने बताया।

must read