झारखंड लोक सेवा आयोग (JPSC) की 7वीं से 10वीं PT परीक्षा रद्द करने की मांग को लेकर 50 दिनों से आंदोलनरत अभ्यर्थियों पर पुलिस ने आधी रात कार्रवाई की है। रात 2 बजे सभी को यहां से उठाकर अज्ञात जगह पर ले जाया गया है। यहां बापू वाटिका पर बने इनके टेंट को भी उखाड़ कर फेक दिया गया है।

वहीं इस मामले पर जिला के आला अधिकारी कुछ भी स्पष्ट बोलने से बच रहे हैं। दैनिक भास्कर के सवाल पर रांची के DC छ‌वि रंजन ने कहा कि उन्हें इस मामले की कोई जानकारी नहीं है वे सरकार आपके द्वार कार्यक्रम में व्यस्त हैं। पुलिस से इस मामले में जानकारी ले लें।

रांची के सिटी SP सौरभ ने सवाल सुनते ही कहा कि वे अभी एक मीटिंग में व्यस्त हैं। मीटिंग के बाद इस मामले में कुछ भी बता पाएंगे। दैनिक भास्कर ने रांची के SSP और SDM लॉ एंड ऑर्डर से भी संपर्क साधने की कोशिश की लेकिन दोनों ने फोन रिसीव नहीं किया।

जानकारी के मुताबिक आंदोलनरत सभी अभ्यर्थियों का फोन जब्त कर लिया गया है। प्रशासन की तरफ से इन्हें किसी से कुछ नहीं बताने की हिदायत दी गई है। भास्कर लगातार आंदोलनरत अभ्यर्थियों से संपर्क करने की कोशिश कर रहा है लेकिन लगभग आधा दर्जन अभयर्थियों का फोन रीसिव नहीं हो रहा है।

वहीं ‌BJP अब इस मसले पर सरकार से सवाल पूछ रही है। विधायक भानू प्रताप शाही ने ने सोशल मीडिया पर लिखा है कि JPSC परीक्षा रद्द करने के लिए मोहराबादी में धरना पर बैठे छात्र रात के 12 बजे के बाद कहाँ उठा के रखे गये बताएं CM ये तो सीधा सीधा लोकतंत्र की हत्या है। सब उनके घर के लोग परेशान हैं। वहीं प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश भी इसके विरोध में मोरहाबादी मैदान पहुंच रहे हैं।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read