सत्यानन्द योग मिशन के तत्त्वावधान में राजधानी के विभिन्न जगहों पर आज भी बड़ी संख्या में लोगों ने किया सूर्यनमस्कार। आज डीएवी हेहल से बड़े स्क्रीन पर स्वामी मुक्तरथ ने सात सौ छात्रों और उनके अभिभावकों को पाँच चक्र सूर्यनमस्कार कराये और इसके लाभ को बताये। 

उन्होंने सैकड़ों अभिभावकों को अपने बच्चे के सुखद भविष्य के लिए प्रतिदिन सूर्यनमस्कार, नाड़ीशोधन प्राणायाम और भ्रामरी प्राणायाम कराने का सुझाव दिया। 

11 बजे बरियातू डीएवी के प्रांगण से ऑनलाइन जुड़े सैकड़ों छात्र और अभिभावकों को सम्बोधित करते हुए आचार्य मुक्तरथ ने कहा योग हमारे जीवन पद्धति का एक हिस्सा होना चाहिये। स्वास्थ्य को परिभाषित करते हुए उन्होंने कहा स्वस्थ होने के लिए व्यक्ति को शारीरिक, मानसिक, और भावनात्मक मजबूती के साथ आध्यात्मिक होना जरूरी है। अध्यात्म के बिना व्यक्ति के पूर्ण स्वास्थ्य की कल्पना निराधार है।

सत्यानंद योग मिशन का आगामी अमृत महोत्सव कार्यक्रम औद्योगिक प्रतिष्ठानों में,कारागारों में और अस्पतालों में होगा। शनिवार को आचार्य मुक्तरथ बिहार के कई नामी-गिरामी विद्यालयों में एक साथ ऑनलाइन हजारों विद्यार्थियों को सूर्यनमस्कार करायेंगे।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read