सेंट्रल कोलफील्ड लिमिटेड (CCL) की चतरा स्थित मगध आम्रपाली एरिया के आम्रपाली परियोजना से 83.63 करोड़ रुपये के कोयला घोटाले में प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने केस दर्ज कर लिया है। ED ने मनी लॉन्ड्रिंग में यह केस पंजीकृत किया है। CBI के रांची स्थित भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (ACB) में गत 17 अगस्त 2021 को दर्ज प्राथमिकी व जांच में आए तथ्यों के आधार पर मामला पंजीकृत किया गया है। घोटाले का यह मामला करीब एक सौ करोड़ तक पहुंच सकता है।
CBI रांची व CCL की जांच टीम के औचक निरीक्षण में चतरा के मगध आम्रपाली एरिया स्थित आम्रपाली परियोजना के स्टॉक से आठ लाख 75 हजार 774 मिट्रिक टन कोयला गायब मिला था। इससे CCL को करीब 83 करोड़, 63 लाख, 64 हजार, 471 रुपये का घाटा हुआ था। जांच में पुष्टि के बाद CBI की रांची स्थित भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने गत वर्ष 17 अगस्त 2021 को आम्रपाली परियोजना के प्रोजेक्ट अधिकारी, मैनेजर, सीनियर मैनेजर सहित सात नामजद व अन्य अज्ञात के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की थी।
आरोपितों पर एक आपराधिक साजिश के तहत फर्जी दस्तावेज पर धोखाधड़ी करने का आरोप लगा था। CBI को यह सूचना मिल रही थी कि लंबे समय से सभी आरोपित एक आपराधिक साजिश के तहत मेजरमेंट बुक में छेड़छाड़ कर कोयला गायब करवा रहे हैं। इसके बाद सीसीएल के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ सत्यापन के लिए एक टीम बनी और इसकी छानबीन शुरू की गई थी। तब पता चला था कि कोयला स्टॉक से आठ लाख 75 हजार 774 मीट्रिक टन कोयला गायब है।

ED ने इन पर दर्ज किया है केस
-दिलीप कुमार शर्मा : परियोजना पदाधिकारी, आम्रपाली परियोजना, चतरा।
- शंभू कुमार झा : प्रबंधक, आम्रपाली परियोजना, चतरा।
-उमेश कुमार सिंह : सीनियर मैनेजर सर्वेयर, मगध आम्रपाली एरिया, सीसीएल, चतरा।
-पंकज कुमार झा : सीनियर अधिकारी, सर्वेयर, मगध आम्रपाली एरिया, सीसीएल, चतरा।
-निहार रंजन साव : मुख्य प्रबंधक खनन, मगध आम्रपाली एरिया, सीसीएल, चतरा।
-मेसर्स एएमपीएल-एमआइपीएल-जीसीएल (जेवी) कोलकाता के सभी निदेशक।
-मेसर्स एएमपीएल-एमआइपीएल-जीसीएल (जेवी) कोलकाता
-अन्य अज्ञात

-------Advertisement-------Jharkhand Janjatiya Mahoutsav-2022
-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga
-------Advertisement-------

must read