*IIT-ISM के अधिकार घटना स्थल पर ।

IIT-ISM के बीटेक और एमटेक के छात्र मंगलवार को ऑनलाइन एग्जाम कराने की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए हैं। छात्रों का कहना है कि जब पूरी पढ़ाई ऑनलाइन हुई है तो परीक्षा ऑफलाइन क्यों ली जा रही है। इसी को लेकर वह प्रदर्शन कर रहे हैं। छात्रों के समूह ने IIT के एडमिन ब्लॉक घेर लिया। इस ब्लॉक में निदेशक राजीव शेखर का कार्यालय है।

छात्रों का कहना है कि IIT कानपुर भी पहले ऑफलाइन परीक्षा कराने जा रहा था बाद में इसे कैंसिल कर दिया। बीटेक और एमटेक के 2000 छात्र ऑनलाइन परीक्षा कराने की मांग पर अड़े हैं। मामले की गंभीरता को देख IIT-ISM प्रबंधन के उच्चाधिकारी मौके पर पहुंचे। इसके बावजूद छात्र हटने को तैयार नहीं हुए। विवाद बढ़ता जा रहा है।

इसी बीच कुछ छात्रों ने नारा लगाना शुरू कर दिया। निदेशक प्रोफेसर राजीव शेखर ने सभी छात्रों को चेतावनी दी। कहा कि पांच मिनट में अगर कैंपस खाली नहीं हुआ तो सभी छात्रों पर प्राथमिकी दर्ज होगी। हालात को संभालने के IIT-ISM ने अपने प्राइवेट सिक्योरिटी गार्ड को तैनात कर दिया है। लगभग डेढ़ सौ से अधिक सिक्योरिटी गार्ड मौके पर तैनात हैं।

प्रोफेसर राजीव शेखर ने बताया कि ऑफलाइन परीक्षा कराने की जानकारी पहले ही छात्रों को दी जा चुकी है। जब स्कूलों में ऑफलाइन परीक्षा हो रही है तो संस्थान में कैसे ऑनलाइन परीक्षा कराएंगे। छात्र ऑफलाइन परीक्षा को लेकर पहले ही हामी भर चुके थे। अब बेवजह मामले को तूल दिया जा रहा है। धरने पर बैठे बीटेक के छात्रों अंशुल, देवांश और सुबोध का कहना है कि पूरे साल ऑनलाइन परीक्षा पढ़ाई हुई है। ऐसे में परीक्षा भी ऑनलाइन ही होनी चाहिए। ऑफलाइन परीक्षा का कोई मतलब नहीं है। हमारी मांग पूरी होने तक हम धरने पर बैठे रहेंगे।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read