भारत सरकार द्वारा जारी जानकारी के हवाले से प्रकाशित विभिन्न मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार भारतमाला प्रोजेक्ट के तहत झारखंड से 3 एक्सप्रेसवे गुजरेंगे. 

प्रोजेक्ट के तहत ओडिशा के संबलपुर से रांची एक्सप्रेसवे कुल लंबाई 146.2 किलोमीटर) तो दूसरा छत्तीसगढ़ के रायपुर से गुमला-रांची होते हुए धनबाद तक एक्सप्रेसवे (कुल लंबाई 700 किमी.) बनाने की योजना है. इसके तहत ओरमांझी से गोला होते हुए बोकारो तक की एक्सप्रेसवे बनेगा. एक तीसरा एक्सप्रेवे भी है जो बिहर के रक्सौल से पश्चिम बंगाल के हल्दिया जाएगा, लेकिन यह झारखंड से भी गुजरेगा.

संबलपुर से रांची तक की ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट की लंबाई 146.2 किलोमीटर है. यह एक्सप्रेसवे ओड़िशा के लिट्टीबेड़ा में यह सड़क शुरू होगी जो झारखंड के खूंटी जिला होते हुए रांची के आउटर रिंग रोड में आकर मिलेगी. दूसरा एक्सप्रेसवे छत्तीसगढ़ के रायपुर से गुमला-रांची होते हुए धनबाद तक बनेगा. यह ओरमांझी से गोला होते हुए बोकारो से जुड़ेगा.

ओरमांझी से गोला होते हुए बोकारो तक के लिए जाने वाली फोरलेन सड़क का निर्माण कार्य दो चरणों में किया जाएगा. पहले फेज में ओरमांझी से गोला और दूसरे चरण में गोला से बोकारो तक सड़क का निर्माण किया जाएगा. इस सड़क में गोला के पहले एक टॉल प्लाजा का निर्माण कराया जाएगा. ये दोनों ही भारतमाला परियोजना के ग्रीन फील्ड में शामिल किया गया है.

साथ ही साथ बिहार में 4 एक्सप्रेसवे बनने जा रहे हैं. पहला औरंगाबाद से जयनगर, दूसरा रक्सौल से पटना होते हुए कोलकाता (रक्सौल-हल्दिया एक्सप्रेसवे), तीसरा बक्सर से भागलपुर और चौथा गोरखपुर से सिलीगुड़ी के बीच प्रस्तावित है. इन चारों एक्सप्रेस वे से बिहार के ३८ ज़िलों में से लगभग २८ जिले जुड़ेंगे.

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read