*Representational image credit & courtesy Times of India

झारखंड के कोयला नगरी धनबाद में चिरकुंडा थाना क्षेत्र के डुमरीजोड़ में BCCL की बंद माइंस में अवैध खनन के कारण लगभग 60 फीट ग्रामीण सड़क धंस गई है। 

आशंका व्यक्त की जा रही है कि 50 से अधिक लोग इसमें फंस गए हैं। यह सभी पश्चिम बंगाल के पुरुलिया के रहने वाले हैं। इलाके में दहशत का माहौल है। लोगों का कहना है कि अवैध खनन के कारण यह हादसा हुआ है।

धंसान से अब तक किसी तरह की क्षति की जानकारी नहीं है। बताया जा रहा है कि गुरुवार सुबह करीब साढ़े आठ बजे अचानक 60 फीट तक सड़क धंस गई। दैनिक भास्कर से बातचीत में धनबाद के उपायुक्त संदीप सिंह ने बताया, 'अब तक किसी तरह के जानमाल की क्षति की सूचना नहीं है। माइंस को जाने वाली कच्ची सड़क धंसी है। प्रशासन और BCCL की टीम मौके पर पहुंच गई है। राहत और बचाव कार्य के लिए NDRF की टीम को मौके पर बुलाया गया है।'

दैनिक भास्कर के रिपोर्ट के अनुसार माइंस में करीब 125 से अधिक लोग मौजूद थे। इसमें से कई लोगों ने भाग कर अपनी जान बचाई। 

मौके पर भारी पुलिस बल तैनात है। लोगों का कहना है कि एक दिन में करीब 2 ट्रक अवैध कोयले का खनन किया जाता है। यह माइंस पिछले छह वर्ष से बंद है। घटना की खबर पाकर चिरकुंडा पुलिस निरीक्षक सह थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार मौके पर पहुंच गए हैं।

थाना प्रभारी जितेंद्र कुमार ने बताया, 'हर एंगल से मामले की जांच कर रहे हैं। पुलिस यह भी पता लगाने की कोशिश कर रही है कि कहीं पूर्व में हुए अवैध खनन के कारण ये घटना तो नहीं घटी है।' सच तो ये है की पिछले वर्ष भी इसी तरह सड़क के धंसने की खबर आई थी।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read