*Image credit & courtesy N7 India News

मनरेगा आयुक्त श्रीमती राजेश्वरी बी का अतिरिक्त प्रभार है - महानिदेशक, राज्य पोषण मिशन झारखंड एवं निदेशक-सह- सदस्य सचिव ,झारखंड राज्य बाल संरक्षण संस्था, झारखंड का पदभार, कर्मचारियों को क्षमता के अनुरूप कार्य करने का दिया निर्देश।

भारतीय प्रशासनिक सेवा (झा. 2011) बैच के अधिकारी श्रीमती राजेश्वरी बी ने आज महानिदेशक, राज्य पोषण मिशन झारखंड एवं निदेशक-सह- सदस्य सचिव ,झारखंड राज्य बाल संरक्षण संस्था, झारखंड के रूप में पदभार ग्रहण किया। इसके साथ अतिरिक्त प्रभार- निदेशक पंचायती राज विभाग, झारखंड, रांची के पद पर पदस्थापित है।

महानिदेशक, राज्य पोषण मिशन झारखंड एवं निदेशक-सह- सदस्य सचिव ,झारखंड राज्य बाल संरक्षण संस्था, झारखंड का पदभार लेने के बाद वे कार्यालय के सभी अधिकारियों और कर्मचारियों से मिली। उन्होंने कार्यालयकर्मियों को निर्देशित करते हुए कहा कि सभी अधिकारी व कर्मचारी यह विशेष ध्यान दे कि कोई भी काम व कोर्ट फ़ाइलस लंबित ना रहे। श्रीमती राजेश्वरी बी ने कहा कि हर एक फाइल के पीछे लोगों की अहम समस्याएं और परेशानियां होती है, जिसका ससमय निवारण करना अतिआवश्यक है। सभी कर्मचारी अपनी क्षमता के अनुरूप कार्य करें।

पदभार ग्रहण करते हुए निदेशक श्रीमती राजेश्वरी बी ने बाल संरक्षण योजना के विभिन्न संभागों का अनुश्रवण किया। इस दौरान राज्य में संचालित कुल 02 राज्य द्वारा संचालित बालगृह ,21 एनजीओ द्वारा संचालित बालगृह, एवं 47 एनजीओ द्वारा स्वपोषित बालगृह जानकारी के अतिरिक्त 11 संप्रेषण गृह एवं 9 विशेष दत्तक ग्रहण संस्था में बच्चों के आवासन की जानकारी प्राप्त की। इन गृहों में राज्य के 2000 से अधिक बच्चे आवासित हैं। जिन्हें राज्य द्वारा देखभाल, संरक्षण की आवश्यकता है।

समीक्षा के क्रम में निदेशक ने सभी कर्मियों को कहा कि जिन बच्चों को कम उम्र में ही विपत्ति व परेशानी का सामना करना पड़ रहा है उन बच्चों को पुनः परिवार से जोड़ना और इनका संपूर्ण विकास महत्वपूर्ण कार्य है।हमसबों का यह महत्वपूर्ण दायित्व होगा।

मौके पर अवर सचिव संग कार्यालयकर्मी एवं अधिकारीगण मौजूद रहे।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read