झारखंड के पश्चिम सिंहभूम के चाईबासा में TPSL समूह के मालिक के घर और ऑफिस पर बुधवार को  इनकम टैक्स की रेड पड़ी है। 

करीब 8 बजे सुबह अधिकारियों की ओर से कार्रवाई शुरू की गई। जो अभी भी जारी है ।जमशेदपुर और रांची से आई संयुक्त टीम ने एक साथ दस्तक दी। अधिकारी कुल 15 वाहनों में सवार होकर पहुंचे थे। TPSL समूह मुख्य रूप से लोहे के कारोबार से जुड़ा हुआ है।

कंपनी का हेड ऑफिस चाईबासा में है। इसके अलावा कोलकाता, राउरकेला में भी इसके कार्यालय हैं। पश्चिम सिंहभूम जिला के नुवामुंडी प्रखंड में कंपनी को लौह अयस्क खदान आवंटित है। दावा किया जा रहा है कि यह 10- 12 साल से बंद है। कंपनी के नाम से एक खदान ओडिशा के जोड़ा में आरपी साव के नाम से आवंटित थी। इसकी लीज अवधि 31 मार्च 2020 में ही समाप्त हो चुकी है।

मामले में आयकर अधिकारी फिलहाल कुछ भी बोलने से मना कर रहे हैं। यह रेड है या सर्वे यह अभी तक आधिकारिक रूप से स्पष्ट नहीं किया गया है।

TPSL कंपनी का कार्यालय तीन राज्यों में है। इसमें झारखंड पश्चिम बंगाल और ओडिशा शामिल हैं। हेड क्वार्टर कोलकाता में है। मैन्युफैक्चरिंग यूनिट ओडिशा में है। आवासीय कार्यालय चाईबासा में है। 

कंपनी में करीब 1000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं। अब तक की जानकारी के अनुसार विभाग को ऐसी सूचना मिली है कि कंपनी को आवंटित माइंस बंद होने के बावजूद कारोबार पर इसका कोई असर नहीं पड़ा है। अधिकारी कंपनी से जुड़े सभी दस्तावेजों को खंगाल रहे हैं। दस्तावेजों की जब्ती के लिए पहुंची हैं।

-------Advertisement-------Jharkhand Janjatiya Mahoutsav-2022
-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga
-------Advertisement-------

must read