झारखंड में जामताड़ा के कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी की जेल से रिहाई के दो दिन बाद दो और विधायकों राजेश कच्छप और नमन विक्सल कोंगाड़ी को भी जेल से रिहा कर दिया गया. 

इन्हें सोमवार को शाम में रिहा किया गया. दोनों विधायकों को लाने के लिए खुद इरफान अंसारी वहां पहुंचे थे. जेल से निकलने के बाद राजेश कच्छप ने कहा कि राजनीतिक साजिश के तहत उन लोगों को फंसाया गया.

उन्होंने कहा कि नौ अगस्त को झारखंड में आदिवासी दिवस के लिए वे लोग साड़ी, फुटबॉल खिलाड़ियों के लिए जर्सी खरीदने के लिए कोलकाता पहुंचे थे, लेकिन उनलोगों को बेवजह फंसा दिया गया. 

कांग्रेस विधायक ने कहा कि पिछले 22 वर्षों से वह कांग्रेस के कार्यकर्ता हैं. कांग्रेस पार्टी ने उन्हें सम्मान दिया है. किसी दूसरी पार्टी में जाने का सवाल ही नहीं उठता है.

उन्हों‍ने कहा कि अब वे लोग जेल से बाहर निकले हैं. पूरी घटना के पीछे किसकी साजिश है, इसका पता लगायेंगे. वहीं, इरफान अंसारी ने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से उन लोगों के अच्छे संबंध हैं. उन्होंने कहा कि दीदी को किसी ने गुमराह किया है. वे लोग जल्द ही दीदी से मिलेंगे और पता लगायेंगे कि ऐसा करने के पीछे क्या मकसद था. वहीं, इस मामले में दो और आरोपी चंदन कुमार और कुमार प्रतीक अभी भी जेल हिरासत में हैं.

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read