*Image courtesy The Telegraph

जमशेदपुर का जाना माना हॉस्पिटल आज बदनाम हो गया । क्योंकि महात्मा गांधी मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (एमजीएम) अस्पताल के प्रसूति विभाग में इलाजरत महिला और 3 घंटे के नवजात की मौत के बाद परिजन आक्रोश में आ गए। 

डॉक्टर और नर्स पर लापरवाही का आरोप लगा लोगों ने खूब हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि प्रसूता दर्द से तड़पती रही। कई बार नर्स और डॉक्टर को बुलाने गए, लेकिन सभी मोबाइल पर व्यस्त रहें। किसी ने आकर चेकअप नहीं किया।

महिला का नाम गुड्डी मुखी है और वह भालूबासा हरिजन बस्ती की रहने वाली है। प्रसव पीड़ा होने के बाद परिजनों ने तड़के 3 बजे एमजीएम में भर्ती कराया था। इधर, परिजनों ने बच्चे की मौत के बाद डॉक्टर और नर्स पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा किया।

मृतका के पति विमल मुखी के मुताबिक उनकी पत्नी को खून की जरूरत थी। वह दर्द से तड़प रही थी। सुबह 5 बजे बच्चे को जन्म देने के बाद लगातार खून बहता रहा। नवजात का भी चेकअप नहीं हुआ। कुछ घंटे बाद बच्चे की मौत हो गई। फिर आधे घंटे बाद तड़प रही पत्नी की भी मौत हो गई।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read