*Jharkhand BJP MLAs protesting against Hemant Soren led government and Speaker allocating a room for offering Namaz inside the Assembly premise in Ranchi to Muslim MLAs and staff.The protest to continue till Friday.

झारखंड विधानसभा में नमाज के लिए अलग कमरा अलॉट करने पर सियासत तेज हो गई है। मानसून सत्र के दूसरे दिन की कार्यवाही शुरू होने से पहले विधानसभा के बाहर BJP विधायकों ने झाल-मंजीरे बजाकर भजन गया। उधर, कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने हनुमान चालीसा का पाठ किया। वहीं, सदन की कार्यवाही शुरू होते ही BJP विधायकों ने जय श्रीराम, हर-हर महादेव के लगे नारे लगाए।

‌BJP विधायकों ने कहा, ‘नमाज के लिए अलग कमरा अलॉट करने का आदेश विधानसभा अध्यक्ष को वापस लेना होगा, तभी विधानसभा चल सकेगी।' 

वहीं, कांग्रेस का कहना है- 'आस्था पर सियासत नहीं करनी चाहिए। समय से नमाज अदा करने के लिए कमरा अलॉट किया गया है। इस मुद्दे को BJP बेवजह तूल दे रही है।' 2 सितंबर को विधानसभा अध्यक्ष रवींद्र नाथ महतो के आदेश पर नमाज के लिए कमरा नंबर TW-348 अलॉट किया गया था।

सदन के बाहर BJP विधायकों के प्रदर्शन को CM हेमंत सोरेन ने दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने कहा, "जब दल के पास कोई मुद्दे नहीं रह जाते हैं ओर कोई टॉपिक नहीं रहता है तो इसी तरीके का आचरण अपना कर सदन को बाधित करते हैं। “मन में अगर आस्था हो तब भगवान सब जगह हैं। मन में अगर राक्षस हो तब सब जगह दुश्मन ही दुश्मन हैं। ये पहले से उनका प्लान है। आज प्रश्नकाल था। सरकार सारे सवालों का जवाब देने के लिए तैयार थी।”

इस मुद्दे पर BJP ने एक सप्ताह के विरोध का खाका जारी किया है। 6 सितंबर को सभी जिलों में धरना-प्रदर्शन हो रहा है। 7 सितंबर को सभी जिला मुख्यालयों पर धरना-प्रदर्शन किया जाएगा और राज्यपाल के नाम पर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपा जाएगा। 8 सितंबर को रांची में झारखंड विधानसभा के सामने BJP धरना देगी। इसके अलावा 9 सितंबर को पार्टी का प्रतिनिधिमंडल राज्यपाल से मुलाकात करेगा और उन्हें सारे हालत की जानकारी दी जाएगी।

इसके पहले रविवार को BJP इसके खिलाफ सड़कों पर उतरी। राज्य के सभी जिलों में पार्टी कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष का पुतला फूंका। सोमवार को प्रदेश अध्यक्ष दीपक प्रकाश ने गोड्डा में और रघुवर दास ने जमशेदपुर में सरकार को घेरा और आंदोलन तेज करने की चेतावनी दी।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read