झारखंड के मानसून सत्र के दूसरे दिन बीजेपी ने कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे पर बड़ा निशाना साधा हैं. बीजेपी विधायकों का कहना है कि कांग्रेस के तीनों विधायक डॉ. इरफान अंसारी, नमन विक्सल कोंगाड़ी और राजेश कच्छप को फंसाने के पीछे सीधे-सीधे कांग्रेस आलाकमान और सत्तारूढ़ गंठबंधन की हेमंत सरकार का हाथ है. 

बीजेपी विधायक बिरंची नारायण ने कहा है कि कांग्रेस प्रभारी अविनाश पांडे इस पूरे कांड के कर्ताधर्ता है. वे हर सप्ताह झारखंड आते हैं और झारखंड से अवैध वसूली कर वापस लौट जाते हैं. ऐसे में बीजेपी की मांग है कि अविनाश पांडे के संपत्ति के भी जांच कराया जाये. 

झारखंड  कांग्रेस के तीनों विधायक के पास मिले बड़ी राशि को लेकर बीजेपी नेता ने कहा है कि उनकी मांग है कि मामले की जांच सीआईडी से नहीं बल्कि ईडी और एनआईए से भी कराई जानी चाहिए. कांग्रेस द्वारा उनके मुख्यमंत्री हेमंत विश्व शर्मा द्वारा हेमंत सरकार गिराने के आरोप के सवाल को लेकर बिरंची नारायण ने कहा कि बीजेपी के मुख्यमंत्री ने स्पष्ट कर दिया है कि वह 22 साल कांग्रेस में रहे हैं. उन ऐसा आरोप लगाना कहीं से भी सही नहीं है.

बिरंची नारायण ने कहा, जहां तक कांग्रेस के तीनों विधायक से बंगाल में एक बड़ी राशि मिलने की बात है तो यह राशि किसी और की नहीं, बल्कि झारखंड सरकार की ही है. जिस तरह झारखंड में हेमंत सरकार के नेतृत्व में खनिज संसाधनों की लूट मची है यह पैसा उसी का हिस्सा है. इस दौरान बीजेपी विधायकों ने हेमंत सरकार से मांग की है कि जिस तरह राज्य में मानसून की स्थिति बनी है, उसे देखते हुए तत्काल झारखंड को आकाल क्षेत्र घोषित किया जाए. बिरंची नारायण ने कहा है कि अभी तक राज्य में केवल 10 से 15 % धान की रोपनी हुई है. 

बीजेपी विधायक हेमंत सरकार को सदन के अंदर और बाहर मजबूर करेंगे, कि राज्य की जनता और किसानों के हित में तत्काल झारखंड का क्षेत्र घोषित करें. झारखंड के वकील राजीव कुमार को पश्चिम बंगाल में गिरफ्तारी को लेकर भी बीजेपी विधायकों ने हमला बोला. बीजेपी विधायक बिरंची नारायण ने कहा है कि सरकार के खिलाफ जो भी कुछ बोलता है, उसके साथ ऐसा ही व्यवहार हेमंत सरकार करती है.

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read