* फोटो सौजन्य आईपीआरडी, झारखंड

राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि जिस देश, राज्य एवं घर में महिलायें पढ़ेंगी वह देश राज्य एवं घर सशक्त होगा। उन्होंने कहा कि समाजिक-आर्थीक विकास हेतु महिलाओं का सशक्तिकरण आवश्यक है। महिलाओं को सशक्त होने हेतु जागरूक तथा सिक्षित होना होगा क्योंकि वे समाज का रीढ़ हैं। राज्यपाल महोदया आज गुमला जिला के रायडीह प्रखण्ड में ग्राम विकास एवं महिला विकास मंडल द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहीं थीं।

राज्यपाल महोदया ने रायडीह में जलमिनार एवं शौचालय-स्नानघर का भी उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि कम उम्र में बालिकाओं का विवाह न करायें, समाजिक कुरीति से दूर रहें तथा जीवन में अच्छे चीजों को अपनाये। उन्होंने महिला विकास मंडल द्वारा किये जा रहे कार्यों की सराहना की तथा देश एवं समाज के अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत बनने की अपेक्षा की। उन्होंने कहा कि यहां की महिलाओं का स्वच्छ्ता की दिशा में आगे आने के साथ-साथ स्वावलंबन के विभिन्न साधनों जैसे मुर्गीपालन, केचुआ खाद निर्माण, बकरीपालन, मशरूम उत्पादन फूल की खेती, सबजी उत्पादन से जुड़ना सराहनीय है। इससे अन्य महिलाओं को भी प्रेरणा मिलेगी तथा उनका समाजिक आर्थिक विकास होगा।
 

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

राज्यपाल महोदया ने कहा कि जरूरतमंदों कि सच्ची सेवा ही भगवान की सेवा है। निःस्वार्थ भाव से सेवा और प्यार से सभी कस्ट दूर हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि बहुत सारे लोग समाज को देना चाहते हैं, लेकिन उचित मंच नहीं मिलता। राज्यपाल महोदया आज गुमला में शान्ति सदन के नये भवन के उद्घाटन के पश्चात लोगों को संबेधित कर रहीं थीं।

राज्यपाल महोद्या ने कहा कि महिलाओं के बिना समाज अधूरा है। हम उनसे बहुत ही आशा करते हैं लेकिन क्या वे आशा कर रही हैं, उसे हम पूर्ण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिस महिला का कोई सहारा नहीं है उसे शान्ति सदन अपना रहा है और समर्पित भाव से कार्य कर रहा है। राज्यपाल महोदया ने उक्त अवसर पर इस संस्था को सहयोगात्मक रूप से अपने विवेकानुदान मद से 2 लाख रूपये देने कि घोषणा की, साथ ही संस्था के एम्बूलेंस एवं किसी निराश्रित के मृत्यु होने के पश्चात दफनाने/जलाने हेतु भूमि उपलब्ध कराने के आग्रह पर कहा कि वे इस सन्दर्भ में सरकार से वार्ता करेगी।

राज्यपाल महोदया ने कहा कि परोपकार से बड़ा कोई अन्य कार्य नहीं है। उन्होंने कहा कि इस जीवलोक में निःस्वार्थ भाव से जो परोपकार के लिए जीता है संघर्स करता है वह सच मायने में जिन्दगी को सही तरीके जीता है।
 

must read