*भारतीय थल सेना इस युद्ध के 50 वर्ष पूरे होने का जश्न मनाते हुए इस वर्ष को स्वर्णिम विजय वर्ष के रूप में मना रही है।

स्वर्णिम विजय मसाल (विक्ट्री फ्लेम) बुधवार को रांची पहुंचा। यहां वार मेमोरियल में मसाल का स्वागत किया गया। जमशेदपुर के रास्ते मसाल राजधानी पहुंचा है। 16 दिसंबर 2020 को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नई दिल्ली के नेशनल वार मेमोरियल से विजय ज्योति भारत भ्रमण के लिए रवाना किया था।

तब से यह देश के अलग-अलग शहरों में पहुंच रहा है। रांची आने पर विक्‍ट्री फ्लेम का सेना के जवानों ने स्‍वागत किया।1971 में भारत-पाक के बीच हुए युद्ध के इस वर्ष 50 वर्ष पूरे हो रहे हैं। इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को करारी शिकस्त दी थी।

साथ ही बांग्लादेश का भी उदय हुआ था। भारतीय थल सेना इस युद्ध के 50 वर्ष पूरे होने का जश्न मनाते हुए इस वर्ष को स्वर्णिम विजय वर्ष के रूप में मना रही है।

साथ ही राष्ट्र के निर्माण के लिए विक्ट्री फ्लेम का आयोजन किया गया है, ताकि देश के युवाओं को भारतीय सेना के शौर्य, साहस और युद्ध में शहीद हुए वीर बलिदानियों के बारे में पूरी जानकारी मिल सके।

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

must read