अधिवक्ता परिषद्, झारखण्ड द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पखवाड़ा के उपलक्ष में  12 मार्च 2023 (रविवार) को रांची स्थित इन्डियन मेडिकल एसोसिएसन के करमटोली (रांची) भवन में एक दिवसीय समारोह का आयोजन प्रात: 10:30 से दोपहर 1:30 बजे तक किया गया । 

इस अवसर पर  "नारी सशक्तिकरण में महिला अधिवक्ताओं की भूमिका" (The role of female advocates in women 's empowerment) विषयक विचार-गोष्ठी का भी आयोजन किया गया जिसमें झारखंड उच्च न्यायालय के माननीय न्यायमूर्ति श्री एस० चंद्रशेखर मुख्य अतिथि, वहीं माननीय न्यायाधीश श्री दीपक रौशन विशिष्ट अतिथि तथा कार्यक्रम की मुख्य वक्ता माननीय न्यायाधीश (अवकाश प्राप्त) श्रीमती मीरा ताई खडकर, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद्, झारखण्ड् उच्च् ‍ न्या यालय एडवोकेट एसोसिशन की अध्य क्षा श्रीमति रितू कुमार, प्रख्या्त  कवित्री श्रीमती सारिका भूषण, झारखण्ड  उच्चच न्या यालय की अधिवक्ताि श्रीमति वंदना सिंह, प्रांत महिला प्रमुख श्रीमति महामाया राय,  प्राचार्या अचार्यकुलम श्रीमति सुजाता कौर तथा प्रांतीय उपाध्योक्ष श्रीमति बी कामेश्वीरी विशेष रूप से मंचासीन थे |

इस अवसर पर मुख्य अतिथि झारखण्ड उच्च न्यायालय के माननीय न्यायमूर्ति श्री एस० चंद्रशेखर ने महिलओं के सशक्तिकरण पर विचार रखते हुए कहा कि विश्वा में महिलाओं का पहला सम्मेीलन इस सदी से पूर्व ही हुआ था उसके बाद से लगातार हो रहे सम्मेहलनों में महिला एवं पुरूष दोनों को समान रूप से हर सामाजिक दष्टिकोण से समान रूप से देखने पर जोर दिया जाता रहा है इसलिए आज की जरूरत है कि परिवार मे समानता पर विशेष बल दिया जाए और ऐसे सम्मेहलनों के द्वारा जागरूकता लायी जाये,  वहीं दूसरी ओर विशिष्ठ अतिथि माननीय न्यायमूर्ति श्री दीपक रौशन के द्वारा महिला सशक्तिकरण पर जोर देते हुए यह कहा गया कि आज के समाज में महिला ही महिलाओं पर अत्याेचार करने लगी है जिस पर विशेष जागरूकता की आवश्येकता है  इसलिए इस तरह के कार्यक्रम की जितनी प्रसंशा की जाय कम है तथा मुख्य वक्ता माननीय न्यायाधीश (अवकाश प्राप्त) एवं अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद् की राष्ट्रीय उपाध्यक्षा श्रीमती मीरा ताई खडकर ने समाज में नारी सशक्तिकरण के लिए महिला अधिवक्ताओ की भूमिका पर प्रकाश डाला एवं कहा कि महिला अधिवक्ता अगर अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन पूरी शक्ति के साथ करे तो समाज के अंतिम नारी तक न्यायिक व्यवस्था सुलभ, सरल एवं सस्ती हो सकती है अतः महिला अधिवक्ताओं को उस ओर ध्यान देकर न्यायिक व्यवस्था को समाज के अंतिम महिला तक पहुंचाने का कार्य करना चाहिए तथा उन्होाने कहा कि अधिवक्‍ता परिषद राष्ट्रीचय विचारों को राष्ट्रि में संगठित करने का एक राष्‍ट्रीय संगठन है तथा संगठन में नारी का सशक्तिकरण अहम विषय है जिसके तहत नारी न तो कभी तो अबला थी न ही रहेगी के विचारो के साथ हम नारी सशक्तिकरण का काम करते है | 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Abua Awas Yojna 

कार्यक्रम की शुरुवात राष्ट्रीय गीत वन्दे मातरम् के गायन से किया गया तथा अतिथियों के द्वारा दीप प्रज्वलित कर, भारत माता के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित की गयी तत्पश्चात अतिथियों का स्वागत एवं स्वागत भाषण श्रीमती श्वेता सिंह के द्वारा दिया गया वहीं प्रदेश मंत्री श्रीमती किरण सुषमा खोया के द्वारा अधिवक्ता परिषद् के सम्बन्ध में जानकारिया दी गयी वहीं मशहूर कवित्री श्रीमती सारिका भूषण के द्वारा कविता पाठ कर उपस्थित श्रोताओं को मंत्रमुग्द्ध कर दिया तथा श्रीमती वंदना सिंह के द्वारा विषय प्रवेश करवाया गया वहीं झारखण्ड उच्च न्यायालय एडवोकेट एसोसिएशन की अध्यक्षा श्रीमती ऋतु कुमार ने उपस्थित अतिथियों को महिला सशक्तिकरण के विषय में अति विशिष्ठ जानकारियों के साथ सम्बोधित किया | 

कार्यक्रम के अंत में प्रदेश महिला प्रमुख श्रीमती महामाया राय द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया तथा राष्ट्र गान उपस्थित जन समूह के द्वारा गाया गया | पूरे कार्यक्रम में मंच का संचालन कार्यक्रम की संयोजिका श्रीमती नीता कृष्णा के द्वारा किया गया वही कार्यक्रम में प्रदेश सम्मलेन प्रभारी अशोक कुमार मिश्र तथा सह प्रदेश सम्मलेन प्रभारी रीतेश कुमार बॉबी विशेष रूप से उपस्थित थे |      

पूरे कार्यक्रम मे विशेष रूप से परिषद् के क्षेत्रीय मंत्री श्री सुनील कुमार (पटना), प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र कुमार मिश्र, महामंत्री विजय नाथ कुंवर (बोकारो), संरक्षक श्री अनिल कुमार कश्य प, राष्ट्री्य परिषद सदस्य् श्री प्रशांत विधार्थी, श्री प्रभात कुमार सिन्हाम, श्री राजकुमार शर्मा, डॉ संतोष पाण्डेरय, श्री भीम महतो, श्री राधे क्रस्णे गुप्ताे, श्री चंद्र भूषण ओझा, श्री पवन पाठक, श्री मिथलेश पाण्डे य, श्री गोपाल क्रस्णी नेताई, श्री प्रमोद गुप्तार, श्रीमति विभा बक्शीे, श्रीमति लीना मुखर्जी, श्रीमति साधना कुमार, श्रीमति दर्शना पोददार, श्रीमति अस्मिता श्रीवास्त्व, सुश्री ज्योवति कश्य‍प, श्रीमति पुनम, श्री प्रदीप कुमार चौरसिया,  श्री अमरदीप प्रजापति, श्री सत्येतन्द्री गंझू, श्री प्रवीण पाण्डेेय, श्री हराधन प्रमाणिक, श्रीमति पिंकी साव, श्री रमित सत्येौन्द्र , श्री रवि प्रकाश, श्रीमति रंजना मुखर्जी के अलावे कई वरिष्ठ अधिवक्तागण, एडवोकेट एसोसिएशन के पदाधिकारीगण, परिषद् के राष्ट्रीय-क्षेत्रीय- प्रान्तीय-जिलों के पदाधिकारीगण, सम्मलेन के सभी आयोजन समितियों के प्रमुख, सभी आयाम के प्रमुख, मार्गदर्शकगण, राष्ट्रीय परिषद् के सदस्य एवं अधिकारीगण विशेष रूप से उपस्थित थे, कार्यक्रम में पूरे झारखण्ड से लगभग ढाई सौ महिला एवं पुरूष अधिवक्ता उपस्थित रहें।    

यह जानकारी झारखण्ड अधिवक्ता परिषद् के प्रदेश मीडिया सह प्रमुख श्री रीतेश कुमार बॉबी, अधिवक्ता के द्वारा दी ।

must read