* फोटो सौजन्य आईपीआरडी, झारखंड

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि झारखंड की गोद में पल रही गरीबी को हर हाल में खत्म करना हमारी प्राथमिकता है। हमारी सरकार की प्राथमिकता समाज के अंतिम व्यक्ति के चेहरे पर मुस्कान लाना है। समाज का अंतिम व्यक्ति खुश रहेगा तभी झारखंड खुशहाल और समृद्ध राज्य बनेगा। उन्होंने कहा कि सरकार एक सकारात्मक सोच के साथ लगातार कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि सरकार जनता को अपने हर कामों में भागीदार बनाना चाहती है जिसका ही यह परिणाम है कि हर बजट से पूर्व हमारी सरकार लोगों की राय जानकर ही बजट बनाती है। बजट में आम जनों की भागीदारी हमारी सांेच को दर्शाता है। वेे आज पाकुड़ के बाजार समिति मैदान में आयोजित संताल परगना प्रमंडल स्तरीय बजट पूर्व संगोष्ठी में लोगों को संबोधित कर रहे थे। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि विकास कार्य में सभी की भागीदारी आवश्यक है। हर व्यक्ति अगर ईमानदारी से कार्य करें तो झारखंड को नई ऊंचाई पर पहुंचने से कोई नहीं रोक सकता। झारखंड सभी राज्यों से समृद्ध राज्य हैं झारखंड ने पिछले 3 सालों में विकास की नई ऊंचाईयों को पार किया है। उन्होंने कहा कि हमारी सरकार समाज के हर वर्ग के सशक्तिकरण, उन्की क्षमता में वृद्धि के लिए प्रतिबद्ध है। उनके योजनाबद्ध विकास और उनकी सलाह से नई नीति, नयी योजना बनाने के लिए लगातार कार्य कर रही है। माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सपने को पूरा करने के लिए राज्य सरकार कृतसंकल्पित है। उन्होंने कहा कि 2022 तक एक बेमिसाल झारखंड बनाना है, जहां कोई गरीब, बीमार, पिछड़ा ना रह जाय, सभी का समान विकास हो। उन्होंने कहा कि राज्य के हर नागरिक को अपनी जिम्मेदारी तय करनी होगी। शिक्षा, स्वास्थ्य एवं सभी नागरिकों को सम्मान के साथ जीने के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई चलाई जा रही है। गरीब बच्चों को शिक्षा के लिए पैसे की कमी नही होगी, राज्य सरकार द्वारा उनके शिक्षा का सारा खर्च वहन किया जाएगा। जब तक झारखंड का हर गांव विकसित नहीं होगा तब तक राज्य के विकास की कल्पना करना मुश्किल है। घर-घर तक विकास की गंगा पहुंचाने के लिए हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि सरकार के खजाने पर हर एक गरीब का हक है, बिचैलिया और दलाल को खत्म करने के लिए सरकार हर कदम उठाने को तैयार है। उन्होंने कहा कि संथाल परगना में बिचैलियों का भंडार था जिसके कारण संथाल परगना के विकास में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री जी का यह सपना है कि 2020 तक हर गरीब का अपना घर होगा और इस सपने को पूरा करने के लिए राज्य सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। गरीबों को घर देने का कार्य सरकार कर रही है। उन्होंने कहा कि बिजली की तरंगे झारखंड के सभी घरों तक पहुंचेगी। 177 पावर ग्रिड 250 से अधिक सब स्टेशन बनाने का कार्य किया जा रहा है। 2018 तक हर घर तक बिजली पहुंचेगी। 

-----------------------------Advertisement------------------------------------Savtribai Phule Kishori Samriddhi Yojna

विकास कार्य में बाधा डालने वालों पर विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी कोई भी व्यक्ति अगर सरकार के विकास कार्य में बाधा डालता है तो उसे किसी किसी कीमत पर बक्शा नहीं जाएगा। उन्होंने कहा कि युवाओं को कौशल विकास के माध्यम से स्वरोजगार से जोड़ने का कार्य राज्य सरकार कर रही है। 

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि एसी कमरे में बैठकर योजना बनाने से उस योजना के क्रियान्वयन की कोई गारंटी नहीं होती लोगों के बीच जाकर उनकी सलाह सेे उनकी आवश्यकता के अनुसार योजना बनाने से योजना लाभकारी सिद्ध होता है। उन्होंने कहा कि बेरोजगार युवाओं को रोजगार दिलाने के लिए सरकार हर संभव प्रयास कर रही है। 

मुख्यमंत्री फेलोशिप योजना की शुरुआत की गई है ताकि पैसों की वजह से किसी की शिक्षा ना रुके संथाल परगना के 9801 विद्यालय में 7797 स्कूलों में बेंच डेस्क की व्यवस्था सुनिश्चित कर दी गई है। उन्होंने कहा कि संथाल परगना के 9801 विद्यालयों में से 7225 विद्यालयों में बिजली पहुंच चुकी है।

इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए मुख्य सचिव राजबाला वर्मा ने कहा कि राज्य का बजट राज्य सरकार का अर्थ संकल्प एवं वित्तीय संकल्प है। जन कल्याण और विकास का कार्य इसी बजट से किया जाता है। सरकार हर बजट से पूर्व लोगों से राय लेकर ही बजट बनाती है जिससे यह साफ जाहिर होता है कि सरकार आम लोगों के विकास के लिए कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि बजट हर वर्ग को प्रभावित करता है, साथ ही साथ आधारभूत संरचना पर भी प्रभाव डालता है। राज्य के विकास को बजट एक नई दिशा देता है। उन्होंने कहा कि बजट जमीनी सच्चाई और आवश्यकताओं पर आधारित हो तभी राज्य को विकास का एक नया आयाम मिल सकता है। विकास स्थाई हो तथा बदलाव लाने में सार्थक हो। 

उन्होंने कहा कि यहां बजट पूर्व संगोष्ठी से आपके जो भी बहुमूल्य सुझाव प्राप्त हुए हैं वह बजट बनाने के लिए कारगर साबित होगें। इन सभी सुझावों को अगले वित्तीय वर्ष में सम्मिलित किया जाएगा। बजट पूरे राज्य को विकास की एक नई दिशा देगा। समावेशी विकास करने में, गरीबी दूर करने मैं, कृषकों की आय बढ़ाने में ,आधारभूत संरचना को मजबूत करने में, बस इससे तेजी लायी जा सकेगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रघुवर दास जी का आपके बीच आना विकास की एक नई पहल है।

इस अवसर पर विषय प्रवेश कराते हुए विकास आयुक्त सह अपर मुख्य सचिव अमित खरे ने कहा कि पिछले 3 सालों में झारखंड में काफी तेजी से आर्थिक विकास हुआ है। गुजरात के बाद सबसे तेजी से विकास करने वाला झारखंड दूसरा राज्य है। इस विकास को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए राज्य सरकार कृतसंकल्पित है। पिछड़े जिलों पर सरकार का विशेष ध्यान है ताकि सभी जिले आगे बढ़े। राज्य विकास की एक नई ऊंचाई पर पहुँचे। उन्होंने कहा कि इस प्रकार के बजट पुर्व संगोष्ठी का अपना एक अलग महत्व है। बजट बनाते समय सरकार हर वर्ग के लोगों के साथ मिलकर बजट बनाना चाहती है। पाकुड़ और साहिबगंज राज्य का सबसे अधिक पिछड़ा जिला है। सरकार विभिन्न सरकारी योजनाओं के माध्यम से इनके विकास के लिए प्रतिबद्ध है। मुख्यमंत्री जी की इच्छा बजट के साथ क्रियान्वन पर भी जोर रहता है आपका हर एक सुझाव राज्य के विकास को एक नए आयाम देने के लिए महत्वपूर्ण है। पूरी सरकार आपके द्वार पर आई है ताकि आपकी समस्याओं को सुनकर जल्द से जल्द समाधान कर सके।इस अवसर पर वित्त सह सिंचाई विभाग के अपर मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने कहा कि सिचाई के क्षेत्र में संथाल परगना काफी पिछड़ा रहा है लेकिन सरकार द्वारा इसके समाधान हेतु लगातार कार्य किए जा रहे हैं।

अजय बराज योजना कंप्लीट कर ली गई है, पुनासी योजना पर भी कार्य लगातार चल रहा है। 2 सालों  में पुनासी योजना को भी पूरा कर जनता को सौंप दिया जायेगा। उन्होंने कहा कि बुढ़ई जलाशय योजना पर भी कार्य जल्द ही शुरू किया जाएगा। संथाल परगना के विभिन्न जिलों में सिंचाई के क्षेत्र में बहुत जल्द प्रगति होने वाली है। जामताड़ा के आसपास बराज का निर्माण कराया जाएगा ताकि स्थानीय किसानों को पेयजल तथा सिंचाई की व्यवस्था आसानी से मिल सके।

इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने कहा कि आपकी हर समस्याओं का समाधान जल्द से जल्द किया जाएगा। पूरे राज्य में 108 एंबुलेंस सेवा बहुत जल्द शुरु की जा रही है। आबादी के आधार पर हर जिले में एंबुलेंस दिया जाएगा। यह एंबुलेंस 24 घंटे अपने कर्तव्य पर रहेगी। 108 पर कॉल करने के 4 मिनट के अंदर एंबुलेंस आपके पास होगा। इस एंबुलेंस में स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम उपस्थित रहेगी। उन्होंने कहा कि बहुत जल्द मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना के तहत गरीबों के बीच स्वास्थ्य कार्ड का वितरण किया जाएगा जो क्रेडिट कार्ड की तरह कार्य करेगी।

इस अवसर पर प्रधान सचिव एपी सिंह ने कहा कि 2018 तक झारखंड को स्वच्छ झारखंड बनाने का संकल्प सरकार ने लिया है। मुख्यमंत्री जी के सपने को साकार करने के लिए विभाग द्वारा निरंतर कार्य किए जा रहे हैं। पाइप के माध्यम से शुद्ध पेयजल पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने सभी उपायुक्तों को कहा कि अगर पाइपलाइन पहुंचने में कहीं परेशानी आ रही है तो डीपीआर बनाकर उसे विभाग को भेज दिया जाए। शुद्ध पेयजल वहां तक पहुंचाने का कार्य सरकार करेगी। उन्होंने कहा कि लिट्टीपाड़ा में  218 करोड़ की योजना का कार्य चल रहा है और बहुत जल्द इस योजना को पूरा कर लिया जाएगा जिससे लोगों को शुद्ध पेयजल मिल पाएगा।

इस अवसर पर सचिव अविनाश कुमार ने कहा कि प्रत्येक गांव में 3 से 5 तालाबों का जीर्णोद्धार किया जाएगा। जोहार योजना के तहत संथाल परगना के 2 जिले पाकुड़ तथा दुमका के 18 प्रखंड लिए जाएंगे। जिसमें कृषकों को प्रशिक्षण देने का कार्य किया जाएगा। उन्हें बेहतर राशि दिला कर उनकी आय को दोगुना करने का कार्य सरकार करेगी।

इस अवसर पर सचिव सुनील वर्णवाल ने कहा कि संताल परगना के विभिन्न क्षेत्रों में शीघ्र ही उद्योग लगाने का कार्य किया जाएगा। हर जिले में इंडस्ट्रियल एरिया को डेवलप किया जाएगा। कोकून उत्पादन में पूरे देश में झारखंड अपनी एक अलग पहचान रखता है। झारखंड के दुमका में सबसे अधिक तसर कोकून का उत्पादन किया जाता है। इन्हें ध्यान में रखते हुए दुमका में बहुत जल्द तसर कोकून के प्रशिक्षण केंद्र खोले जाएंगे। इसके साथ ही बांस के ऊपर आधारित उद्योगों को भी प्रोत्साहित किया जा रहा है। संताल परगना के क्षेत्र में उद्योग लगाने का प्रयास किया जा रहा है। 

राज्य सरकार ने बालू उत्खनन के लिए भी एक नई नीति बनाई है जिसे मार्च से लागू किया जाएगा। यह बदलाव एक बड़ा बदलाव के रूप में सरकार करने जा रही है लेकिन अवैध खनन पर पूरी तरह से सरकार रोक लगाएगी। सारे परिवर्तन संताल परगना की तस्वीर बदलेगा। उन्होंने कहा कि देवघर दुमका में रेशम उद्योग खोले जाएंगे जिससे यह क्षेत्र झारखंड का महत्वपूर्ण औद्योगिक क्षेत्र बनेगा।

इस अवसर पर सचिव आराधना पटनायक ने कहा कि 18000 शिक्षकों की नियुक्ति पिछले 3 साल में की जा चुकी है तथा अप्रैल तक सारे हाई स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति हर हाल में की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि 280 प्लस टू शिक्षको की नियुक्ति के लिए विज्ञापन निकाल दिया गया है और यह चयन अप्रैल तक पूरा कर लिया जाएगा। सभी स्कूलों में लेबोरेटरी तथा लाइब्रेरी की व्यवस्था जल्द से जल्द की जाएगी। उन्होंने कहा कि बिजली ना होने की वजह से लेबोरेटरी तथा लाइब्रेरी की व्यवस्था नहीं की गई थी अधिकांश है विद्यालयों में बिजली की व्यवस्था सुनिश्चित कर ली गई है। उन्होंने कहा कि कंप्यूटर शिक्षा को सभी विद्यालयों में अनिवार्य किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले 3 वर्षों में सरकार द्वारा सभी विद्यालयों में एक बड़ा बदलाव किया गया है। सभी विद्यालयों में बेंच डेस्क पूरा करने का कार्य लगभग लगभग पूरा किया जा चुका है। 

इस अवसर पर संथाल परगना के सभी 6 जिलों के उपायुक्त, आरक्षी अधीक्षक के साथ जनप्रतिनिधि, विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते गणमान्य लोग, उपस्थित थे।

must read