Governor’s Advisor Madhukar Gupta today stressed the need to strengthen the panchayat bodies at the ground zero.

He was addressing a meeting organised on the occasion of Panchayati Raj Diwas at Tribal Research Institute in Ranchi.

A press release issued by the public relations department in Hindi said as follows:

राज्यपाल के सलाहकार श्री मधुकर गुप्ता ने कहा कि बुनियादी स्तर पर समग्र विकास मात्र सपना नही बलिक हम सब का उíेश्य है। विकास हेतु दृढ़ निश्चय एवं पूर्ण समर्पण के साथ कार्य आवश्यक है, जिसमें पंचायतों की सहभागिता अनिवार्य है। ग्रामीण स्तर पर स्वावलम्बन एवं आत्मनिर्भरता से ही विकास सम्भव है। अधिकार के साथ दायित्व भी जुड़े होते हैं। पंचायती विकास हेतु पंचायतों को संसाधन भी जुटाने होंगे। योजनाओं के क्रियान्वयन, अनुश्रवण इत्यादि पंचायत स्तर पर किए जाने हैं, इसके लिए पंचायतों के सशकितकरण एवं क्षमता विकास आवश्यक है।

श्री मधुकर गुप्ता आज स्थानीय जन-जातीय शोध संस्थान मोरहाबादी, रांची में आयोजित पंचायती राज्य दिवस समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राजीव गाँधी पंचायत सशकितकरण अभियान के तहत पंचायतों को भवन, कम्प्यूटर अन्य आवश्यक सामग्री उपलब्ध कराए जाने की योजना है। जिसके तहत क्षमता विकास हेतु अनेक योजनाएं चलार्इ जा रही हैं। पंचायत प्रतिनिधियों को बुनियादी जानकारी दी जा चुकी है। उन्हें लेखा कार्य, कम्प्यूटर के संचालन इत्यादि में भी प्रशिक्षित किया जाएगा। विभाग इसके लिए सुनियोजित कार्यक्रम तैयार कर रहा है। क्षमता विकास एवं प्रशिक्षण हेतु राशि की कमी नही है, आवश्यकता है अच्छे ट्रेनिग माडयूल बनाने की। गाँव के समग्र विकास का आधार पंचायत को बनना है। उन्होेंने कहा कि झारखण्ड में पंचायतों के माध्यम से विकास के कार्य इस स्तर तक हों कि अन्य राज्य के लोग यहाँ के पंचायतों के कार्य प्रणाली को देखने झारखण्ड आएं। चार विभागों द्वारा पंचायत स्तर पर शकित का विकेन्द्रीकरण किया जा चुका है, शेष विभाग भी इस हेतु प्रयासरत हैं।

इस अवसर पर सचिव पंचायती राज श्री राजीव अरूण एक्का ने कहा कि लोकतांत्रिक व्यवस्था में पंचायत सरकार महत्वपूर्ण अंग है। यह वह स्तर है जहाँ पर योजनाओं क्रियान्वयन किया जाना है। निदेशक सर्ड (ैजंजम प्देजपजनजम व तिनतंस क्मअमसवचउमदज) श्री आर0पी0सिंह ने कहा कि पंचायतों को सशकितकरण एवं क्षमता विकास हेतु सर्ड के माध्यम से अनेक कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं। प्रत्येक वर्ष पंचायती राज दिवस 24 अप्रैल को नर्इ दिल्ली में अच्छे कार्य हेतु पंचायतों को पुरस्Ñत किया जाता है। इस वर्ष पंचायती राज दिवस पर छ: पुरस्कार झारखण्ड के पंचायत प्रतिनिधियों को मिले हैं। अन्य पंचायतों से समय पर नामिनेशन नहीं हो पाने के कारण और पुरस्कार नही मिल सके। जब तिथि निर्धारित है तो इसके लिए प्रयास पूर्व से ही आरम्भ कर दिए जाने की आवश्यकता है।

कार्यक्रम में विगत दिनों 24 अप्रैल को विज्ञान भवन नर्इ दिल्ली में आयोजित पंचायत दिवस पर पुरस्Ñत छ: पंचायतों के प्रतिनिधियों को विभाग की ओर से प्रशसित पत्र एवं पुरस्कार राशि का ड्राफ्ट सौंपा गया। धनबाद जिला अन्तर्गत बारा अमोना पंचायत पलहारपुर पंचायत तथा देवघर जिला के गोमिया पंचायत को बारह-बारह लाख रूपये, पंचायत समिति निरसा, मधुपुर पंचायत समिति को बीस-बीस लाख रूपये तथा धनबाद जिला परिषद को चालीस लाख रूपये के पुरस्कार राशि का ड्राफ्ट उपलब्ध कराया गया। इस राशि का उपयोग पंचायत के विकास हेतु किया जाना है।

कार्यक्रम को यूनिसेफ के झारखण्ड प्रभारी श्री जाब जकारिया तथा श्री यू0आर0विश्वास ने भी सम्बोधित किया। कार्यक्रम में पंचायतों के मुखिया, पंचायत समिति के अध्यक्ष, जिला परिषद के अध्यक्ष तथा अनेक स्वयं सेवी संस्थाओं के प्रतिनिधि एवं विभागीय पदाधिकारीगण उपसिथत थे।

--------------------------Advertisement--------------------------Old Pension Scheme

must read