Kickstarting a two day meeting at Administrative training Institute in Ranchi today,

Governor Syed Ahmad exhorted officials to work with a sense of commitment and honesty.

A press release issued by the public relations department in Hindi said as follows:

माननीय राज्यपाल डा0 सैयद अहमद ने कहा है कि इस दो दिवसीय बैठक की सार्थकता तभी पूरी होगी, जब लोगों के समक्ष अच्छा परिणाम आयेगा। उन्होंने कहा कि मकसद अच्छा होगा, चरित्र अच्छा होगा तो काम भी निषिचतरूपेण अच्छा होगा। उन्होंने कहा कि अच्छे परिणाम हेतु कार्य करने की दिषा ठीक होनी चाहिये। माननीय राज्यपाल महोदय आज ए0टी0आर्इ0 सभागार में विभागीय सचिवों, प्रमंडलीय आयुक्तों, उपायुक्तों एवं उप विकास आयुक्तों के साथ विकास कार्यों एवं कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में राज्यपाल के परामर्षी श्री मधुकर गुप्ता एवं श्री के0 विजय कुमार, मुख्य सचिव श्री आर0एस0 शर्मा, विकास आयुक्त श्री ए0के0 सरकार भी उपसिथत थे।

राज्यपाल महोदय ने कहा कि सभी लोग पूरी निष्ठा, र्इमानदारी व समर्पण के साथ अपना कार्य करें, इसमें कमी स्वीकार नहीं किया जायेगा। जो लोग इन उम्मीदों पर खरा नहीं उतरते है, उन पर कार्रवार्इ की जायेगी। उन्होंने कहा कि किसी भी योजना का कार्यान्वयन तय समय-सीमा के अन्दर हो, अनावष्यक विलम्ब न करें। उन्होंने कहा कि कुछ विभाग तय समय-सीमा के अन्दर अपने कार्य को कार्यानिवत नहीं करते हैं, यह उनकी षिथिलता को दर्षाता है, विलम्ब होने पर कार्य के कार्यान्वयन की लागत राषि में भी वृद्धि होती है। उन्होंने कहा कि सरकारी काम को उतनी ही निष्ठा से करें, जैसा कि आप अपना स्वयं अथवा अपने घर के कार्य को करते हों। उन्होंने राज्य के विकास हेतु योजनाओं के कार्यान्वयन में तेजी लाने हेतु निदेष दिया है। उन्होंने कहा कि यह भी देखने की जरूरत है कि कार्य गुणवŸà¤¾à¤¾à¤¯à¥à¤•à¥à¤¤ हों। उन्होंने क्षेत्रीय पदाधिकारियों से कहा कि वे कायोर्ंं की गुणवŸà¤¾à¤¾ का समय-समय पर मूल्यांंकन करें एवं संवेदक एजेंटस को वांछित परामर्श दें, जो संवेदकएजेंट गुणवŸà¤¾à¤¾à¤¯à¥à¤•à¥à¤¤ काम नहीं करते है, उनके प्रति नरमी नहीं दिखार्इ जाय, उन पर कार्रवार्इ की जाय।

माननीय राज्यपाल ने इस समीक्षात्मक बैठक में जन-वितरण प्रणाली को प्रभावी बनाने हेतु विभाग को विषेष ध्यान देने का निदेष दिया। उन्होंने कहा कि अन्न का उठाव समय पर हो, यह हर हाल में विभाग सुनिषिचत करें। उन्होंने कहा कि उन्हें जन-वितरण प्रणाली के संबंध में शिकायतें मिलती रहती है कि दूकानदारों द्वारा कम अनाज दिया जाता है, ज्यादा राशि माँगी जाती है, कर्इ बार तो कालाबाजारी कर दी जाती है। राज्यपाल महोदय ने कहा कि गरीबों का अनाज छीननेवालों को भगवान भी माफ नहीं करेंगे। अत: वे दोषियों को अवष्य ही दंडित करेंगे, किसी भी कीमत पर पर माफ नहीं करेंगे।

राज्यपाल महोदय ने स्वास्थ्य सेवाओं में विस्तार लाने का निदेष दिया है। उन्होंने कहा है कि अस्पतालस्वास्थ्य केन्द्रों एवं उपकेन्द्रों में दवायें सुलभ रहें, अत्यावष्यक जाँच के उपकरण हों, जिलाक्षेत्रीय अस्पतालों में चालक एवं एम्बुलेन्स सुलभ रहे। राज्यपाल महोदय ने राज्य में निर्बाध विधुत आपूर्ति का निदेष देते हुए कहा कि खराब अथवा जले हुए ट्रांसफरमर को अविलम्ब बदला जाय। समीक्षात्मक बैठक में उन्होंने निदेष दिया कि पेयजल की समुचित व्यवस्था की ओर विषेष ध्यान देने की आवष्यकता है। उन्होंने कहा कि जहाँ पेयजलापूर्ति पाइपलार्इन के माध्यम से नहीं होती है, वहाँ वैकलिपक व्यवस्था कर लोगों को पेयजल सुलभ कराये। उन्होंने खराब चपानल की अविलम्ब मरम्मती करने का निदेष दिया। साथ ही, जरूरत पड़ने पर टैंकर के माध्यम से भी जलापूर्ति करने हेतु कहा है।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

राज्यपाल महोदय ने मनरेगा इत्यादि जैसी जनहित से जुड़ी महत्वपूर्ण योजनाओं के कार्यान्यवन में गति लाकर इसे राज्य में और प्रभावी बनानेे हेतु कहा, किसी भी प्रकार की षिथिलता अथवा लापरवाही नहीं होनी चाहिये, दोषियों को दंडित किया जायेगा। बैठक में राज्यपाल महोदय ने कहा कि पंचायती राज संस्थाओं को समुचित अधिकार दिये जाने का जिम्मा संबंधित विभागों को सौंपा गया है। विभाग पंचायत प्रतिनिधियों को उनके अधिकार से अवगत कराये, ताकि वे इनका उपयोग कर अधिक से अधिक जनसेवा कर सके।

इस समीक्षात्मक बैठक में राज्यपाल महोदय ने कहा कि राज्य में विकास की गति में तेजी लाने हेतु यह भी अत्यवाष्यक है कि सभी पदाधिकारीकर्मी समय पर कार्यालय आयें, इस हेतु वरीय पदाधिकारियों को समय-समय पर अपने क्षेत्रीय कार्यालयों का भी भ्रमण करना चाहिए। संचार के विभिन्न माध्यमों यथा- दूरभाष, विडियो कान्फ्रेसिंग, मोबाइल इत्यादि के जरिये जनता के साथ संबंध बनाकर उनका फीड-बैक हासिल कर विकास की गति में तेजी लायें। जनता को अनावष्यक न दौड़ायें, उनकी बतों को सुनें।

must read