*फ़ोटो में दिखता रांची महानगर अधिवक्ता परिषद द्वारा आयोजीत भारतीय नववर्ष व सरहुल पर्व पर विचार गोष्ठी

विक्रम संवत् से आरंभ होने वाला भारतीय नववर्ष राष्ट्रीय चेतना का प्रतीक है। सम्राट विक्रमादित्य द्वारा स्थापित विक्रम संवत् एक अविस्मरणीय दिवस है, इसे महापर्व के रूप में मनाया जाना चाहिए। 

उपर्युक्त बातें अधिवक्ता परिषद, रांची महानगर इकाई द्वारा स्थानीय बरियातू रोड स्थित 'कल्याण आश्रम' सभागार में आयोजित विचार गोष्ठी को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के झारखंड प्रांत प्रचारक गोपाल शर्मा ने कहीं। 

उन्होंने कहा कि सरहुल पर्व प्रकृति प्रेम और जनजातीय सांस्कृतिक चेतना की अभिव्यक्ति करने वाला पर्व है, जो हमें प्रकृति के बांसतीय स्पंदन से जोड़ता है। अधिवक्ता परिषद के झारखंड/ बिहार के क्षेत्रीय मंत्री सुनील कुमार ने कहा कि हर भारतीय को विक्रम संवत् से आरंभ होने वाला भारतीय नववर्ष धूमधाम से मनाना चाहिए। उन्होंने सरहुल पर्व के महत्व पर भी प्रकाश डाला।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के झारखंड प्रांत संचालक सच्चिदानंद अग्रवाल ने अपने सारगर्भित संबोधन में भारतीयता के प्रतीक विक्रम संवत् के महत्व पर विस्तार से प्रकाश डाला। अधिवक्ता परिषद, झारखंड के प्रदेश अध्यक्ष राजेंद्र मिश्र ने विक्रम संवत 2079 और सरहुल के पर्व की सबों को बधाइयां दीं और विक्रम संवत् व सरहुल पर्व के महत्व पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम का आरंभ किरण खोया ने सरहुल पर्व पर विषय प्रवेश के रुप में कराया। 

 

-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga

इस अवसर पर अधिवक्ता परिषद, झारखंड प्रदेश के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिव कुमार अग्रवाल, प्रदेश महामंत्री विजय नाथ कुंवर, प्रदेश उपाध्यक्ष राज कुमार शर्मा(देवघर), प्रदेश उपाध्यक्ष संतोष कुमार पांडेय, प्रदेश कोषाध्यक्ष पवन कुमार पाठक, अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद के राष्ट्रीय परिषद सदस्य डॉक्टर भीम महतो, प्रशांत विद्यार्थी, प्रमोद कुमार गुप्ता, झारखंड प्रदेश इकाई के मार्गदर्शक मंडल के सदस्य राजेंद्र कृष्ण, कृष्ण गोपाल निताई, अखिल भारतीय अधिवक्ता परिषद के राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य प्रशांत सिंह, सुनील कुमार, लीना मुखर्जी, बख्शी विभा, प्रभात कुमार, वरीय अधिवक्ता राजीव शर्मा,वरीय अधिवक्ता अजीत कुमार, वरीय अधिवक्ता अनिल कुमार, वरीय अधिवक्ता जय प्रकाश, वरीय अधिवक्ता आर एन सहाय, प्रवीण पाण्डेय, प्रशांत पल्लव, राधा कृष्ण गुप्ता, प्रदीप कुमार चौरसिया, मनोज कुमार, सुव्रतो दास गुप्ता, सत्येन्द्र गोंझू, बलराम जायसवाल, पी एल पटोदिया, राजीव रंजन, ओ पी विदसर, अशोक कुमार सहित बड़ी संख्या में अधिवक्तागण उपस्थित थे। यह जानकारी प्रांत (झारखण्ड) मीडिया सह प्रमुख रीतेश कुमार बाॅबी अधिवक्ता के द्वारा दी गयी । 
 

must read