*Image credit IPRD, Jharkhand

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि जब तक महिलायें सषक्त नहीं होगी तब तक देश के विकास की कल्पना नहीं की जा सकती है। इसलिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जितनी भी योजनाएं बनाई गई हैं या बनाई जा रही है सभी योजनायें महिलाओं को ध्यान में रखकर बनाया जा रहा है। गरीब परिवार भी गरिमा के साथ अपना जीवन व्यतीत करें यह सरकार की सोच है। वर्ष 2019 तक माननीय प्रधानमंत्री द्वारा 5 करोड़ परिवारों तक गैस कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। माननीय प्रधानमंत्री के सपनों को साकार करने के लिए झारखंड सरकार द्वारा गैस कनेक्शन के साथ लाभुक के बीच चूल्हा भी वितरित किया जा रहा है। झारखंड देश का पहला राज्य है जहां उज्ज्वला योजना में मिलने वाले गैस कनेक्शन के साथ चूल्हा भी दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि गैस के साथ चूल्हा देने के लिए बजट में 300 करोड़ रुपए निर्धारित किया गया है। अब तक लगभग 10 लाख लाभुकों के बीच एलपीजी कनेक्शन पहुंचाया जा चुका है तथा वर्ष 2018 तक लगभग 28 लाख गरीब परिवारों तक एलपीजी कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य सरकार ने निर्धारित किया है। झारखंड समृद्ध राज्य है कुछ कारणों से झारखंड विकास नहीं कर पाया। पिछले 3 वर्षों में स्थाई सरकार के आने पर झारखंड ने विकास की एक नई लकीर खींची है। मुख्यमंत्री आज शिकारीपाड़ा प्रखंड अंतर्गत मुड़ायाम पंचायत के बालीजोर गांव से पूरे झारखंड में प्रधानमंत्री एलपीजी पंचायत की शुरुआत कर रहे थे।  

मुख्यमंत्री ने कहा कि गरीब को उनका हक मिले, हर गरीब परिवारों के घर में चूल्हा जले इसके लिए सरकार कृतसंकल्पित है। जनभागीदारी से ही बदलाव आ सकती है। झारखंड को विकास के एक नए पथ पर ले जाने के लिए सबकी भागीदारी सुनिश्चित करनी होगी। उन्होंने कहा कि सरकार गरीब के दर्द को समझती है। गरीब को भी सम्मान दिलाने का कार्य वर्तमान सरकार ने किया है। उन्होंने कहा कि एलपीजी गैस कनेक्शन से पर्यावरण के साथ स्वच्छ वातावरण भी लोगों को मिल रहा है। सरकार पुरानी व्यवस्था को बदलने के लिए योजना के पैसे को सीधे लाभुकों के खाते में देने का कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि आदिवासी बाहुल्य गावों में आदिवासी विकास समिति एवं वैसे गांव जहां आदिवासियों की संख्या कम है वहां ग्राम विकास समिति बनाई जा रही है। सरकार समिति के निर्णय को अंतिम मानकर उन्हीं के बनाये योजनाओं पर कार्य करेगी। जिससे गांव का विकास सही मायने में हो सकेगा। उन्होंने कहा कि जिनके पास रहने को घर नहीं है वैसे लोगों को चिन्हित किया जायेगा तथा प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उन्हें जल्द से जल्द घर मुहैया कराया जायेगा। 

मुख्यमंत्री दास ने कहा कि नया झारखंड बनाने के लिए सभी को आगे आना होगा। वर्ष 2022 तक न्यू झारखंड बनाने के लिए सभी संकल्प लें। गरीबी को दूर करने का एकमात्र औजार शिक्षा है। सभी लोग अपने घर के बच्चों को शिक्षा दें। इसके लिए सरकार हमेशा आपके साथ खड़ी है। बेटा और बेटी में कोई फर्क ना करें, बेटी को भी जरूर स्कूल भेजें। पलायन रोकने के लिए सरकार ने जोहार तथा तेजस्विनी योजना की शुरुआत की है। हाथ में हुनर देकर हर नौजवान युवा एवं युवतियों को रोजगार उपलब्ध कराने का कार्य सरकार की प्राथमिकता है। 

जोहार योजना के माध्यम से 1500 करोड रुपए पूरे राज्य में खर्च किए जाएंगे। आदिवासी महिलाओं को प्रशिक्षण देकर बेहतर आमदनी के लिए उन्हें कृषि क्षेत्र में प्रोत्साहित किया जायेगा। सभी पंचायत में दो फुटबाॅल ग्राउण्ड का निर्माण कराया जायेगा ताकि उन्हें बेहतर षिक्षा के साथ-साथ बेहतर स्वास्थ्य मिले। 

इस अवसर पर समाज कल्याण मंत्री डॉक्टर लुईस मरांडी ने कहा कि पिछले 3 वर्षों में सरकार द्वारा किये गये कार्य की ना सिर्फ झारखंड में बल्कि पूरे देश में चर्चा हो रही है। आज झारखंड विकास की नई ऊंचाई पर पहुंच चुका है। माननीय मुख्यमंत्री श्री रघुवर दास द्वारा लगातार विकास की एक नई इबारत लिखी जा रही है। सरकार महिलाओं के सशक्तिकरण के लिए लगातार कार्य कर रही है। झारखंड की महिलाओं को सशक्त तथा स्वावलंबी बनाने के लिए सरकार द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही है। आदिवासी समाज के सर्वांगीण विकास के लिए सरकार द्वारा लगातार कार्य किए जा रहे हैं। माननीय मुख्यमंत्री के सपने को साकार करने के लिए हमें भी कार्य करना होगा। सभी लोगों को जागरुक होना होगा। उन्होंने कहा कि जोहार तथा तेजस्विनी योजना के माध्यम से सरकार आदिवासी महिलाओं को कृषि क्षेत्र में प्रशिक्षण देकर रोजगार के नए अवसर प्रदान करना चाहती है। उज्ज्वला योजना के तहत सरकार ने गैस कनेक्शन के साथ चूल्हा वितरित कर महिलाओं को सम्मान के साथ जीना सिखाया है। 

इस अवसर पर विकास आयुक्त अमित खरे ने कहा कि महिलाओं को सम्मान के साथ जीने में एलपीजी गैस योजना मील का पत्थर साबित हो रहा है। एलपीजी कनेक्शन से गरीब परिवार की महिलाएं अपना बचे हुए वक्त का सदुपयोग कर छोटे-छोटे रोजगार कर रही है तथा परिवार की आय बढ़ाने में सहयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री द्वारा झारखंड के महिलाओं के सर्वांगीण विकास के लिए लगातार कार्य किए जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने आपके सुझाव के अनुरूप बजट बनाया है ताकि आपके राज्य आपके गांव आपके पंचायत का समग्र विकास हो सके। संथाल परगना के विकास हेतु सरकार प्रतिबद्ध है। इस दिवाली तक सरकार ने सभी घरों तक बिजली पहुंचाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। गांव का विकास हो महिलाओं युवा वर्ग के लोगों को स्वरोजगार मिले यह सरकार की प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि साहिबगंज तथा पाकुड़ को 50-50 करोड़ का स्पेशल पैकेज दिया गया ताकि वह भी अन्य जिलों की तरह विकास की राह पर चल पड़े। 

इस अवसर पर सरकार के सचिव अमिताभ कौशल ने कहा कि एलपीजी पंचायत का शुभारंभ बालीजोर गांव से पूरे झारखंड में हो रहा है। उज्ज्वला योजना के बाद एलपीजी पंचायत का शुभारंभ किया जा रहा है ताकि महिलाओं को एलपीजी के बारे में जागरुक कर सके। उन्होंने कहा कि एलपीजी गैस कनेक्शन मुफ्त में देकर सरकार ने महिलाओं को सम्मान देने का कार्य किया है। उन्होंने कहा कि महिलाएं गैस में खाना बनाकर अपना ज्यादा से ज्यादा वक्त बच्चे की षिक्षा तथा अपने अपने छोटे व्यापार में भी दे पायेंगी।
 

-------Advertisement-------Har Ghar Tiranga

must read