अंतर्राष्ट्रीय साहित्य कला संगम साहित्योदय के नवरात्र महोत्सव के पांचवे दिन बुधवार 21 अक्टूबर रात 8 बजे से मशहूर लोकगायिका देवी लाइव प्रस्तुति देंगी। कार्यक्रम का लाइव प्रसारण पूरी दुनिया में साहित्योदय के फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर सहित विभिन्न चैनलों पर एकसाथ होगा। देवी के कार्यक्रम को लेकर लोगों में बड़ी उत्सुकता है और सैकड़ो लोगों ने लाइव देखने हेतु अपनी रुचि दिखाई है।

कार्यक्रम का संचालन साहित्योदय के संस्थापक जानेमाने कवि और मंच सञ्चालक पंकज प्रियम करेंगे। उन्होंने बताया कि 17 से 25 अक्टूबर तक नवरात्र महोत्सव का आयोजन किया गया है जिसमें दुनियाभर के रचनाकार और कलाकार अपनी प्रस्तुति दी रहे हैं। 20 अक्टूबर रात 8 बजे सुप्रसिद्ध लोकगायिका और टीवी कलाकार विजया भारती लाइव, गुरुवार को नवरात्र के रंग 9 देवियों के संग होगा इसके अलावा हर दिन शाम 6-8 बजे तक ज़ूम लाइव में कवि सम्मेलन में हर रोज  कवि-कवयित्रियों का भक्तिमय काव्यपाठ चल रहा है।

उन्होंने बताया कि साहित्य-कला और संस्कृति के उत्थान हेतु साहित्योदय पिछले 2 वर्षों से लगातार समर्पित है। इस कोरोना काल को सृजन काल मे तब्दील कर उम्मीद का सूरज बनकर निकला है। ऐसे समय मे जब सारे मंचीय आयोजन बन्द पड़े हैं तो साहित्योदय ने सबसे पहले 22 मार्च से लोकडॉन ऑनलाइन मंच की शुरुआत कर दी।

अबतक डेढ़ हजार से अधिक ऑनलाइन काव्यपाठ, साहित्य संग्राम के 25 एपिसोड, अंतर्नाद के 15 एपिसोड, काव्यधारा के 10 एपिसोड और सावन महोत्सव के 30 एपिसोड पूर्ण कर चुके हैं। इन कार्यक्रमों में दुनियाभर के रचनाकार, कलाकार और पत्रकार हिस्सा ले चुके हैं। साहित्योदय अपनी त्रैमासिक पत्रिका, काव्यसागर, शब्दमुसाफ़िर, कोरोनाकाल, रुदाली, इश्क़ समंदर सहित कई पुस्तकों का भी प्रकाशन कर रहा है। हालात सुधरते ही बहुत जल्द देवघर में बाबा बैद्यनाथ अंतर्राष्ट्रीय साहित्य महोत्सव काव्याभिषेक का भी आयोजन किया जाएगा जो विगत 5 अप्रैल को ही आहूत था।

साहित्योदय में दुनियाभर में 10 हजार से अधिक रचनाकार, कलाकार और पत्रकार जुड़े हैं। 70 से अधिक देश, सैकड़ों शहर और भाषाओं के लाखों लोगों तक साहित्योदय की पहुँच है। साहित्योदय के सफल संचालन में संजय करुणेश, राकेश तिवारी, जयप्रकाश राज, अनामिका गुप्ता, रजनी चँदा, गीता चौबे, अर्चना पाठक, सुदेषणा सामन्त, किशोरी और सुरेन्द्र उपाध्याय की सराहनीय भूमिका है।

--------------------------Advertisement--------------------------Birsa Jayanti

must read